shivrajभोपाल,  मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने केन्द्रीय भारी उद्योग मंत्री अनंत गीते से भेंट करके भारी उद्योग मंत्रालय से संबधित मध्यप्रदेश के प्रस्तावों पर विस्तार से चर्चा की।

दोनों के बीच कल हुई इस मुलाकात में श्री गीते ने श्री चौहान के प्रस्तावों से सहमत होते हुए सकारात्मक समाधान का आश्वासन दिया। उन्होंने बताया कि केन्द्र की ओर से इंदौर में रोजगार देने वाली पूरी तरह आटोमेटिक आटो हब स्थापित करने की पहल हो रही है। इंदौर एवं पीथमपुर क्षेत्र इसके लिये सर्वाधिक उपयुक्त है। उन्होंने कहा कि केन्द्र की ओर से मध्यप्रदेश के प्रस्तावों को हरसंभव सहयोग दिया जायेगा।

श्री चौहान ने इंदौर-पीथमपुर में आटो टेस्टिंग ट्रेक की स्थापना के बाद शेष बची जमीन को राज्य सरकार को वापस करने का आग्रह किया। राज्य सरकार ने जितनी जमीन उपलब्ध करवाई थी उससे कम जमीन पर यह ट्रेक व्यवस्थित रूप से संचालित है। श्री चौहान ने श्री गीते को बताया कि शेष जमीन वापस मिलने पर यहाँ जापान की कंपनियों के लिये विशेष इंडस्ट्रियल टाउनशिप का विकास किया जायेगा।

मुख्यमंत्री ने भेल भोपाल की 2500 एकड़ जमीन के उपयोग के संबंध में भी प्रस्ताव रखा। उन्होंने कहा कि यदि भेल निकट भविष्य में अपनी इकाई का विस्तार नहीं कर रहा है तो राज्य सरकार इस जमीन पर इंडस्ट्रियल टाउन बनाने की इच्छुक है। उन्होंने कहा कि राज्य ने एम्स के लिये भी जमीन उपलब्ध करवाई है। उन्होंने कहा कि सेंट्रल इंस्टीट्यूट आफ प्लास्टिक इंजीनियरिंग की स्थापना के लिये भेल की दस एकड़ जमीन मिलने से केन्द्र सरकार के लिये भी संस्थान की स्थापना का काम आसान हो जायेगा। श्री चौहान ने माइक्रो, स्माल एण्ड मीडियम इंटरप्राइज टूल रूम की स्थापना के लिये भी 25 एकड़ जमीन वापस दिलाने का आग्रह किया।

श्री चौहान ने भेल से जुड़े अन्य मुद्दों की ओर केन्द्रीय मंत्री का ध्यान आकर्षित करते हुए बताया कि यहाँ स्थापित एन्सीलरी इकाइयों को नया जीवन देने के लिये 32 एकड़ जमीन राज्य के उद्योग विभाग को वापस मिलने से एन्सीलरी इकाइयों के लिये उसका सदुपयोग हो सकेगा।

Related Posts: