महिला को डेढ़ लाख में बेचने का मामला

नवभारत न्यूज भोपाल,

शाहजहांनाबाद से मां-बेटी की खरीद फरोख्त करने के मामले में फरार आरोपियों की तलाश में पुलिस टीमें दबिश दे रही हैं ,लेकिन आरोपी हाथ नहीं आ रहे.

पुलिस को यह भी अंदेशा है कि आरोपी वहां से कहीं भाग गए हैं. पुलिस उनके रिश्तेदारों की सूची निकालकर उनके यहां दबिश भी दे रही है, लेकिन अभी तक कोई सफलता हाथ नहीं लगी है. गौरतलब है कि शाहजहांनाबाद पुलिस ने राजगढ़ जिले के भाटनी गांव से महिला को मुक्त कराया था.

यहां महिला को गांव के ही सुमेर गुर्जर को डेढ़ लाख रुपए में बेच दिया गया था, वहीं बच्ची को पुलिस ने विदिशा से बरामद कर लिया था. पुलिस को इस मामले में मुख्य सरगना शानू निवासी पीरगेट हाथ नहीं लग रहा है.

पुलिस की मानें तो शानू ही इस घटना का मास्टरमाइंड है. इसके साथ ही पुलिस महिला के साथ जबरदस्ती शादी करने वाले सुमेर गुर्जर व उसके पिता लक्ष्मण गुर्जर को भी तलाश कर रही है.

सोचा था कि यहां से नहीं निकल पाऊंगी

महिला अभी भी काफी डरी सहमी हुई है. महिला ने पुलिस को पूछताछ में बताया कि 24 घंटे उस पर निगाह रखी जाती थी. इतना ही नहीं आसपास के किसी भी व्यक्ति से उसे बात तक नहीं करने दिया जाता था. महिला का कहना है कि उसने यह सोच लिया था कि अब वह यहां से कभी नहीं निकल पाएगी.
मेरे जैसे कई और हैं

महिला ने पुलिस को यह भी बताया कि भाटनी गांव में उस जैसी कई और महिला भी हैं, जिन्हें खरीद फरोख्त कर वहां लाया गया है. पुलिस के मुताबिक गांव तक पहुंचने में काफी परेशानी हुई, इतना ही नहीं पुलिस को सुमेर के घर तक पहुंचने में काफी मशक्कत करनी पड़ी.

Related Posts: