Aruna_royजयपुर 26 जून. मेगसेसे पुरस्कार से सम्मानित अरूणा राय ने देश में अघोषित आपातकाल का आरोप लगाते हुये कहा कि नागरिक स्वतंत्रता पर हमला करने वालों को कोई डर नहीं होने से ही यह नतीजा है कि जब मैं सोशलमीडिया पर लिखती हूं तो लोग मुझ पर थूकते है1

आपातकाल विरोधी दिवस पर आयोजित सम्मेलन के बाद पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि देश में बोलने की आजादी खतरे में है तथा सूचना के अधिकार आंदोलन के कार्यकर्ताओं एवं कमजोर वर्गों पर हमले बढ रहे है 1 उन्होंने कहा कि आज यह स्थिति है कि किसी ने अपना कोई विचार व्यक्त कर दिया तो उसे जान भी खोनी पड सकती है1 देश में पिछले दिनों ऐसी कई घटनाएं हुयी है.

Related Posts:

50 हजार शौचालय होंगे 30 जून तक
आतंकवाद से निपटने के लिये युद्ध ही एकमात्र विकल्प नहीं : सुषमा
एसपी सलविंदर और उसके दोस्तों के ठिकानों पर छापे
प्रवीण राष्ट्रपाल के निधन पर राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित
गुलबर्ग सोसायटी नरसंहार : अब 9 जून को सुनायी जायेगी सजा
सरकारी विश्वविद्यालय और विदेशी विश्वविद्यालयों के बीच होगा करार