मुरैना,  मंगलवार-बुधवार की आधी रात को मुरैना की जिला जेल में एक कैदी ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली. मृत कैदी मोबाइल लूट के मामले में विगत 40 दिनों से जेल में बंदी था. बीते 110 दिनों में मुरैना जेल में कैदी द्वारा खुदकुशी का यह दूसरा मामला है.

घटना को लेकर जेल प्रशासन द्वारा ड्यूटी पर तैनात दो प्रहरियों को निलंबित कर दिया गया है. मृत कैदी के परिजनों ने बुधवार सुबह जिला जेल सहित कलेक्टर बंगले का घेराव किया. जिसके बाद ज्ञापन भी दिया गया.

कोतवाली थाने की पुलिस ने धारा 11, 13 एमपीडीपीके एक्ट के तहत दर्ज मोबाइल लूट के मामले में कृष्णा कुशवाह 34 वर्ष निवासी मुंशी का बाग थाना सिविल लाईन और उसके रिश्तेदार विशाल को 3 जुलाई 2017 को गिरफ्तार किया था. 4 जुलाई को न्यायालय ने दोनों आरोपियों को जेल भेज दिया था. तब से ही विशाल एवं कृष्णा जिला जेल में बंदी थे. कृष्णा जेल की बैरक नंबर 7 में था, जबकि विशाल एक अन्य बैरक में था.

जेल प्रशासन के अनुसार मंगलवार की रात करीब 2.30 बजे कृष्णा ने तौलिया के सहारे बैरक के सरिए से फंदा बनाकर फांसी लगा ली. रात 2.40 बजे ड्यूटी पर तैनात प्रहरियों ने जब कृष्णा को फंदे पर झूलते देखा तो जेल उप अधीक्षक बीएल शुक्ला को सूचना दी. रात को ही जेल प्रबंधन ने कृष्णा के परिजनों को सूचना दे दी. बुधवार की सुबह कृष्णा के परिजन जिला जेल पहुंच गए. जहां उन्होंने जेल प्रबंधन पर आरोप लगाते हुए हंगामा कर दिया.

Related Posts: