shivsenaमुंबई, 12 अप्रैल. शिवसेना ने आज एक नये विवाद को पैदा करते हुए मांग की कि मुसलमानों के मताधिकार को वापस ले लेना चाहिए क्योंकि इस समुदाय का इस्तेमाल अकसर वोटबैंक की राजनीति के लिए किया जाता रहा है।

शिवसेना ने ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तिहादुल-मुस्लिमीन (एमआईएम) और उसके नेताओं ओवैसी बंधुओं की तुलना जहरीले सांपों से की जो अल्पसंख्यक समुदाय का शोषण करने के लिए जहर उगलते रहते हैं।