मीडिया से रोते हुए बोले तोगडिय़ा, सीएम और गृहमंत्री से भी की बात

  • वीएचपी ने की मामले की निष्पक्ष जांच की मांग
  • मेरे खिलाफ देशभर में लगाए गए हैं कई केस

अहमदाबाद,

आखिरकार वीएचपी नेता प्रवीण तोगडिय़ा ने खुद यह बात स्वीकार कर ली है कि वह राजस्थान पुलिस की गिरफ्तारी से बचने के लिए गायब हुए थे.

तमाम कयासों के बीच आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में प्रवीण तोगडिय़ा ने दावा किया कि राजस्थान पुलिस ने उनके एनकाउंटर की साजिश रची थी, इसलिए वह खुद वीएचपी दफ्तर से गायब हो गए थे.

उन्होंने आरोप लगाया कि वह हिंदू एकता के लिए प्रयास कर रहे हैं, इसलिए उनकी आवाज को दबाने की कोशिश की जा रही है. तेजतर्रार और आक्रामक छवि की पहचान रखने वाले तोगडिय़ा अपनी बात कहते हुए कई बार भावुक हो गए. उनकी आंखों में आंसू नजर आ रहे थे.

तोगडिय़ा ने कहा कि देशभर में सामाजिक गतिविधियों के कारण उन पर कई केस लगाए गए हैं. उन्होंने कहा, मेरे पास उन मामलों की जानकारी भी नहीं है. मुझे अरेस्ट कर के एक जेल से दूसरी जेल भेज कर डराने की कोशिश की जा रही है.

ये सिलसिला गुजरात से शुरू हुआ था और मकर संक्रांति के दिन राजस्थान पुलिस का काफिला मुझे गिरफ्तार करने आया. यह हिंदुओं की…मेरी आवाज दबाने के कदमों का एक हिस्सा है. तोगडिय़ा ने दावा किया कि उन्होंने राजस्थान के मुख्यमंत्री और गृहमंत्री से भी बात की.

 

मैं सुबह पूजा-पाठ कर रहा था. तभी एक व्यक्ति मेरे रूम में घुसा और कहा कि आप तुरंत घर छोड़ दो, आपका एनकाउंटर करने वाले हैं. मैंने ध्यान नहीं दिया. बाहर दो पुलिस वाले थे.

तब तक थोड़ी देर में फोन आया और कहा गया कि 16 पुलिस स्टेशनों से राजस्थान पुलिस का काफिला निकला है गुजरात पुलिस के सहयोग से. मैं तुरंत बाहर निकला. मैंने पुलिसवालों से कहा कि मैं कार्यालय छोडक़र जा रहा हूं. नीचे उतरा ऑटो रिक्शा पकड़ा. -प्रवीण तोगडिय़ा, वीएचपी नेता

तोगडिय़ा ने कहा, इसके बाद मैंने तय किया कि मैं खुद इसके खिलाफ कोर्ट जाऊंगा. मैं फ्लाइट पकडऩे के लिए एयरपोर्ट की ओर बढ़ा. इस बीच तबीयत बिगड़ गई. चक्कर आने लगा, पसीना आने लगा. इसके बाद मैं बेहोश हो गया. इसके बाद क्या हुआ, मुझे कुछ नहीं पता. यह बात कहते हुए तोगडिय़ा भावुक हो गए. उनकी आवाज़ भरभराने लगी और आंखों में आंसू आ गए.

जेड प्लस सिक्यॉरिटी होने के बावजूद भी प्रवीण तोगडिय़ा जी गायब हो जाते हैं. सोचने की बात है कि आम आदमी का क्या हो सकता है. प्रवीण तोगडिय़ा जी ने पहले भी कहा था कि उनकी जान को खतरा है.
-हार्दिक पटेल के ट्वीट से

तोगडिय़ा बीजेपी की हरकतों को जानते हैं. राजस्थान पुलिस पहले भी कई फर्जी एनकाउंटर कर चुकी है. इसी तरह से पहले भी कई लोगों की फर्जी एनकाउंटर में हत्या हो चुकी है. इसकी जांच होनी चाहिए.
-अर्जुन मोढवाडिया , कांग्रेस नेता

Related Posts: