smriti_iraniनई दिल्ली, 31 मई. कई विवादों के केंद्र बिंदु में आ चुकीं मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि यह सब इसलिए हो रहा है क्योंकि वह सीधी बात करने वाली हैं तथा उस शिक्षा क्षेत्र में यथास्थिति को चुनौती दी है जिसका इस्तेमाल कुछ लोगों द्वारा मुनाफे के स्रोत के तौर पर किया जा रहा था.

मोदी मंत्रिमंडल के दो अन्य सदस्यों पीयूष गोयल एवं निर्मला सीतारमण के साथ एक संवाद कार्यक्रम में भाग लेते हुए स्मृति ने शिक्षा के भगवाकरण के आरोप को भी खारिज कर दिया और कई कदम गिनाए जो उन्होंने नीति निर्धारण की प्रक्रिया में छात्रों एवं अभिभाकों को सशक्त बनाने के लिए उठाए हैं.

Related Posts:

ममता को सौंपे सांसदों ने इस्तीफे
भारत-पाक वार्ता के दरवाजे खोलने को राजी
कांग्रेस ने उत्साहपूर्वक मनाया 131वां स्थापना दिवस
अगस्ता वेस्टलैंड के साथ मोदी सरकार की आपराधिक साजिश : कांग्रेस
गुलबर्ग सोसायटी नरसंहार - अदालत ने 24 को ठहराया दोषी, 36 दोषमुक्त, सजा पर फैसला ...
एयर इंडिया के विमान से टकराया पक्षी, बाल-बाल बचे 254 लोग