16kk19स्टावेंजर, 16 जून. नार्वे शतरंज टूर्नामेंट से ठीक पहले भारतीय ग्रैंड मास्टर विश्वनाथन आनंद को चिर प्रतिद्वंद्वी विश्व चैंपियन नार्वे के मैग्नस कार्लसन के हाथों ब्लिट्ज टूर्नामेंट के फाइनल राउंड में शिकस्त झेलनी पड़ी जिसके साथ वह पांचवें स्थान पर रहे. टूर्नामेंट में आनंद की शुरूआत अच्छी रही थी और उन्होंने शुरूआती दो राउंड जीते. लेकिन आखिरी राउंड मुकाबले में नार्वे के कार्लसन ने फिर से आनंद को शिकस्त दे दी.

आनंद टूर्नामेंट में 5.5 अंकों के साथ पांचवें स्थान पर रहे और इसी के साथ वह संभावित नौ खिलाडिय़ों में जगह नहीं बना पाये. ब्लिट्ज टूर्नामेंट में हालांकि विजेता फ्रांस के मैक्सिम वाचियर लागरेव रहे जिन्होंने कार्लसन और इटली के फाबियानो कारूआना को हराया और 6.5 का स्कोर किया. पूर्व विश्व चैंपियन आनंद ब्लिट्ज के ठीक बाद शुरू होने वाले नार्वे शतरंज टूर्नामेंट में इटली के फाबियो कारूआना के खिलाफ खेलने उतरेंगे. आनंद कारूआना के खिलाफ सफेद मोहरों के साथ खेलेंगे.

उनके अलावा रूस के एलेक्सांद्र ग्रिसचुक, अमेरिका के हिकारू नाकामूरा, अर्मेनिया के लेवोन आरोनियन और नार्वे के कार्लसन ड्रा में खिताब के प्रबल दावेदार है. भारतीय ग्रैंड मास्टर आनंद को भले ही नार्वे टूर्नामेंट से ठीक पहले झटका लगा है लेकिन उनका यह सत्र अभी तक अच्छा रहा है जिसमें उन्होंने ज्यूरिख क्लासिक में जीत दर्ज की और शमकीर शतरंज टूर्नामेंट में दूसरे स्थान पर रहे. अनुभवी भारतीय खिलाड़ी अपने इस प्रदर्शन की बदौलत 2800 रेटिंग क्लब में वापिस जगह बना पाये और विश्व रैंकिंग में नंबर तीन पर पहुंच गये हैं.

Related Posts: