modi1विएनतियन,  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 14वें आसियान-भारत शिखर सम्मेलन और 11वें पूर्व एशिया शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिये लाओस की दो दिन की यात्रा पर आज यहां पहुंचे । श्री मोदी सम्मेलन के इतर आज शाम जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे और लाओस के प्रधानमंत्री थोंगलून सिसूलिथ से मुलाकात करेंगे। वह लाओस के प्रधानमंत्री द्वारा आयोजित रात्रिभोज में भी शिरकत करेंगे।

प्रधानमंत्री ने एक बयान में कहा कि आसियान भारत की एक्ट ईस्ट नीति का प्रमुख साझीदार है और पूर्वोत्तर क्षेत्र के आर्थिक विकास में बहुत अहम स्थान रखता है। एक रणनीतिक साझीदार के तौर पर आसियान की भारत के इस क्षेत्र में पारंपरिक एवं गैरपारंपरिक चुनौतियों का मुकाबला करने तथा सुरक्षा हितों की रक्षा करने में बहुत अहम भूमिका है। पूर्व एशिया सम्मेलन एशिया प्रशांत क्षेत्र में चुनौतियों और अवसरों पर चर्चा करने का महत्वपूर्ण मंच है।

उन्होंने कहा कि दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों के साथ भारत के संंबंध वास्तव में ऐतिहासिक रहे हैं। हमारे संबंधों एवं उद्देश्य को जिस एक शब्द में व्यक्त किया जा सकता है, वह है-कनेक्टिविटी। भारत आसियान देशों के साथ यातायात एवं डिजिटल दोनों प्रकार की कनेक्टिविटी बढ़ाना आैर संस्थागत लिंकेज को मज़बूत करना चाहता है ताकि जनता का आपस में संपर्क बढ़े और इसका लाभ दोनों क्षेत्र के लोगों को मिल सके।

Related Posts: