modi chinaबीजिंग, 22 फरवरी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अरुणाचल दौरे से चीन को मिर्ची लगी है. इस संबंध में चीन ने बीजिंग में भारतीय राजदूत को तलब किया और इस दौरे पर विरोध दर्ज कराया. चीन ने विरोध दर्ज कराते हुए कहा कि इससे चीन की क्षेत्रीय संप्रभुता, अधिकार एवं हितों की अनदेखी हुई है. चीन के इस बेबुनियादी विरोध पर भारत ने दो टूक जवाब देते हुए कहा है कि प्रधानमंत्री अपनी धरती पर कहीं भी जा सकते हैं.

खबर में कहा गया कि चीन के उप-विदेश मंत्री लियू झेनमिन ने शुक्रवार को मोदी के ‘विवादित सीमा क्षेत्रÓ के दौरे पर विरोध जताते हुए भारत के राजदूत अशोक कुमार कंठ को ‘तलबÓ किया. खबर के मुताबिक, ‘लियू ने चीन-भारत सीमा पर विवादित क्षेत्र में अपने नेता के दौरे के इंतजाम पर भारतीय पक्ष द्वारा दिए जा रहे जोर के प्रति गहरा असंतोष एवं कड़ा विरोध दर्ज कराया. भारत में चीनी दूतावास ने दौरे के बाबत शनिवार रात भारतीय अधिकारियों को एक ज्ञापन भी दिया था.

पीएम जाएंगे दौरे पर

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज इस महीने की शुरुआत में बीजिंग गई थीं और उन्होंने इस साल मई में मोदी के प्रस्तावित चीन दौरे को लेकर भी राष्ट्रपति शी जिनपिंग एवं अन्य अधिकारियों से बातचीत की थी. प्रधानमंत्री मोदी राज्य के 23वें स्थापना दिवस समारोह में हिस्सा लेने के लिए शुक्रवार को अरुणाचल प्रदेश गए थे.

चीन की आपत्ति

कंठ से हुई मुलाकात के दौरान लियू ने कहा मोदी के दौरे ने चीन की क्षेत्रीय संप्रभुता, अधिकार एवं हितों की अनदेखी की है. ‘ज्ञात हो कि चीन अरुणाचल प्रदेश को दक्षिणी तिब्बत का हिस्सा बताता रहा है. इस क्षेत्र में किसी भी उच्च-स्तरीय भारतीय दौरे का चीन नियमित तौर पर विरोध करता रहा है. लेकिन मोदी के दौरे को लेकर दोबारा किया गया यह विरोध ऐसे समय में हुआ है कि दोनों देशों आपसी संबंध सुधारने के लिए कई पहल कर रहे हैं.

Related Posts:

वीना ने मांगा 10 करोड़ रुपये का हर्जाना
26/11 न्यायिक जांच आयोग की रिपोर्र्ट गैरकानूनी: पाक
ऑड-ईवन के संकट से खुद निपटने में सक्षम : लोकसभा सचिवालय
जेएनयू कुलपति की छात्रों से आंदोलन खत्म करने की अपील
मप्र में चम्बल और नर्मदा एक्सप्रेस-वे का निर्माण होगा : गडकरी
व्हाइट हाऊस ने ग्रीन कार्ड धारकों के लिये नये दिशा निर्देश जारी किये