बीजेपी ने लपकी गाली, चुनावी नुकसान से बचने के लिए राहुल ने की कार्रवाई

 

खास बातें

  • मेरी हिंदी कमजोर, अंग्रेजी शब्द का गलत अर्थ लगाया: मणिशंकर अय्यर
  • मोदी ने कहा-बैलेट पेपर से देंगे जवाब
  • राहुल गांधी का फैसला राजनीतिक परिपक्वता का परिचायक

 

नई दिल्ली,

कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर द्वारा पीएम मोदी को ‘नीच और सभ्य’ कहे जाने के बाद जहां कांग्रेस बैकफुट पर आ गई थी, वहीं बीजेपी ने उस ‘गाली’ को लपक लिया. इस पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने ‘चुनावी नुकसान’ से बचने के लिए तत्काल प्रभाव से अय्यर को निलंबित कर दिया है.

राहुल गांधी का यह फैसला राजनीतिक क्षेत्र में ‘परिपक्व राजनीतिक’ वाला माना जा रहा है और यह बीजेपी के चौके पर छक्के की तरह ही है. इससे पहले राहुल गांधी ने ट्वीट कर अय्यर के बयान से असहमति जताई थी और कहा था कि उन्हें इसके लिए माफी मांगनी चाहिए.

राहुल ने ट्वीट में कहा था कि बीजेपी और प्रधानमंत्री अक्सर कांग्रेस पार्टी पर हमले के लिए खराब भाषा का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन हमें उस ओर ध्यान नहीं देना चाहिए . कांग्रेस की संस्कृति और विरासत अलग है.

मणिशंकर अय्यर ने प्रधानमंत्री के लिए जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल किया मैं उसका समर्थन नहीं करता. बाद में अय्यर ने अपने बयान के लिए सशर्त माफी भी मांग ली थी. प्रधानमंत्री ने गुजरात की एक चुनावी रैली में पलटवार करते हुए इसे गुजरात का अपमान करार दिया था.

क्या है पूरा विवाद?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को दिल्ली स्थित इंटरनैशनल बाबा साहेब आंबेडकर सेंटर का उद्घाटन करते हुए कांग्रेस पार्टी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर इशारों में जमकर निशाना साधा और कहा था कांग्रेस ने एक परिवार को बढ़ाने के लिए बाबा साहेब के योगदान को दबाया.

पीएम के इस बयान से नाराज कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने आपत्तिजनक टिप्पणी की. उन्होंने मोदी को नीच और असभ्य तक कह डाला. अय्यर ने कहा, मुझको लगता है कि यह बहुत नीच किस्म का आदमी है. इसमें कोई सभ्यता नहीं है और ऐसे मौके पर इस किस्म की गंदी राजनीति करने की क्या आवश्यकता है?

अय्यर ने जताया था अफसोस

बयान पर विवाद बढ़ता देख मणिशंकर अय्यर ने सशर्त माफी मांग ली थी. उन्होंने कहा कि पीएम ने उनके शब्द का गलत अर्थ लगाया. इसके साथ ही अय्यर ने इस पूरे विवाद के लिए अपनी कमजोर हिंदी को जिम्मेदार बताया है.

अय्यर ने कहा है कि उनके कहने का वह अर्थ नहीं जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बता रहे हैं. मणिशंकर ने कहा, मैं हिंदीभाषी नहीं हूं. मैंने इंग्लिश शब्द एलओडब्ल्यू का मन में तर्जुमा किया नीच. मेरे कहने का मतलब नीची जाति में पैदा होने से (लो बर्न) से नहीं था.

यदि नीच शब्द का यह अर्थ भी हो सकता है तो मैं माफी मांगता हूं. यदि कांग्रेस को गुजरात में इससे नुकसान हो तो मुझे अफसोस होगा. साल 2014 के लोकसभा चुनावों में वो मणिशंकर ही थे जिन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चायवाला कहकर संबोधित किया था .

मणिशंकर ने यह भी बताया कि हिंदी की कम जानकारी की वजह से उन्होंने एक बार पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी के लिए नालायक शब्द का इस्तेमाल कर दिया था.

“मोदी ने कहा, मैं भले ही नीची जाति का हूं लेकिन काम ऊंचे किए हैं. उन्होंने कहा, ऊंच-नीच हमारे संस्कार में नहीं रहा, यह आपको ही मुबारक. इसके अलावा मणिशंकर अय्यर को आड़े हाथों लेते हुए पीएम ने यह भी कहा कि वह इसका जवाब नहीं देंगे.

उन्होंने कहा, बीजेपी का कोई कार्यकर्ता किसी भी फोरम पर इसका जवाब नहीं देगा. हम ऐसी बातों का जवाब नहीं देते. यह मुगल मानसिकता के अलावा और कुछ नहीं है.”

“कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर अय्यर के खिलाफ कार्रवाई की जानकारी दी. सुरजेवाला ने ट्वीट किया कि कांग्रेस ने अय्यर को कारण बताओ नोटिस जारी कर प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया है. उन्होंने पीएम को चुनौती देते हुए लिखा कि क्या मोदी जी कभी यह साहस दिखाएंगे? “

Related Posts:

शाहिद को हो गया बिपाशा से प्यार!
56 इंच के सीने का क्या हुआ, आईएस का झंडा लहराए जाने पर नीतीश ने पूछा
रिजर्व बैंक का एकाधिकार समाप्त करने की तैयारी
शिप्रा संरक्षण देश के लिए आदर्श प्रस्तुत करेगा : अवधेशानंदजी
भारत से अंतरराष्ट्रीय कानून का आदर करना सीखे चीन : कैरी
शिवराज के पीछे खड़ी है पार्टी, 11 साल पूर्ण होने पर प्रदेशभर में दीपावली मनायेगी...