नयी दिल्ली,

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद का शीतकालीन सत्र सुचारू ढंग से चलने की उम्मीद जताते हुये आज सकारात्मक बहस और नवाचारी सुझावों के साथ संसद के समय का उपयोग करने की अपील की।

श्री मोदी ने संसद सत्र शुरू से होने से पहले संसद परिसर में संवाददाताओं से कहा “हमारा शीतकालीन सत्र शुरू हो रहा है और मुझे विश्वास है कि 2017 में प्रारंभ होकर 2018 तक चलने वाले इस शीतकालीन सत्र में सरकार के कई महत्वपूर्ण कामकाज जो दूरगामी प्रभाव पैदा करने वाले हैं, वो सदन में आयेंगे। अच्छी बहस हो, सकारात्मक बहस हो, नवाचारी सुझावों के साथ बहस हो।”

प्रधानमंत्री ने कहा “मुझे विश्वास है और कल की सर्वदलीय बैठक में भी इसी पर सहमति बनी थी कि देश को आगे बढ़ाने की दिशा में संसद के इस सत्र का उपयोग सकारात्मक रूप से हो। मैं भी आशा करता हूँ कि संसद का सत्र चलेगा, देश लाभान्वित होगा, लोकतंत्र मजबूत होगा और सामान्य नागरिक की आशाओं-आकांक्षाओं को परिपूर्ण करने में एक नया विश्वास पैदा होगा।”

उन्होंने कहा कि आम तौर पर दिवाली के साथ-साथ ठंड का मौसम भी प्रारंभ हो जाता है लेकिन, ग्लोबल वार्मिंग और जलवायु परिवर्तन का प्रभाव यह है कि अब भी ठंड उतनी अनुभव नहीं हो रही है।

Related Posts: