प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आज यहां सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) पर प्रतिष्ठित वैश्विक सम्मेलन (डब्ल्यूसी) और नेस्कॉम इंडिया लीडरशिप फोरम 2018 का उद्घाटन किया।

श्री मोदी ने इस मौके पर 80 देशों के प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए कहा कि देश ‘डिजिटल इंडिया’ की ओर बढ़ रहा है और इस दिशा में सिर्फ सरकार की तरफ से किए गए प्रयास पर्याप्त नहीं हैं। उन्होंने कहा कि डिजिटल लेन-देन से राज्य के खजाने में बचत होती है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय वित्तीय समावेशन याेजना ‘जन धन’ के जरिए 57 हजार करोड़ रुपये जमा हुए हैं।

श्री मोदी ने कहा कि देश के एक लाख गांवों को ऑप्टिकल फाइबर डिजिटल कनेक्टिविटी से जोड़ा गया और देश में छह करोड़ लोगों को डिजिटली तौर पर साक्षर किया गया।
तीन तीनों तक चलने वाले इस समारोह में 50 सत्रों के दौरान दुनियाभर के दो सौ से अधिक विद्वान व्याख्यान देंगे।

केंद्रीय सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री रवि शंकर प्रसाद इस समारोह के मुख्य अतिथि हैं। श्री प्रसाद की अध्यक्षता में इस समारोह में डिजिटल अर्थव्यवस्था में शासन के पुनर्विचार’ विषय पर परिचर्चा होगी।
इस मौके पर तेलंगाना के आईटी मंत्री के टी रमा राव के अलावा श्रीलंका, बंगलादेश, अर्मेनिया तथा अन्य देशों के प्रधिनिधि मौजूद रहेंगे।

Related Posts: