19nandkumar chauhanभोपाल,19 जुलाई. भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमारसिंह चौहान ने कहा कि जातीय समाज भारत की एक वास्तविकता है और इसकी सामाजिक उपयोगिता भी रही है, लेकिन आज आवश्यकता इन्हें अगड़ों-पिछड़ों में बांट कर राजनीति करने की नहीं इनके आर्थिक उन्नयन के लिए शिद्दत के साथ मिलजुलकर प्रयास करने की है.

उन्होंने कहा कि इसके उलट होता यह है कि जैसे-जैसे चुनाव आते हैं कुछ दल जातीय गणना को तूल देने में जुटकर वोट बैंक की जुगाड़ करने लगते हैं.

विषमता दूर हो
आवश्यकता तो इस बात की है कि जो विषमता की खायी बढ़ गई है और विषमता आई है उसे दूर करने में सरकार, समाज और राजनैतिक दल एक जुटता से काम करें. अगड़े और पिछड़े के झगड़े के बजाय हमारी नजर इस बात पर होना चाहिए कि अमीरी और गरीबी का अंतर किस तरह दूर हों. सभी के घर रोषन हों. सामाजिक आर्थिक विषमता समाप्त हो.

Related Posts: