GST_meetनयी दिल्ली,  वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) विधेयक तथा कुछ अन्य महत्वपूर्ण विधेयकों पर आम सहमति बनाने की कोशिश के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी तथा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ विचार-विमर्श किया। प्रधानमंत्री आवास सात रेसकोर्स रोड पर हुई इस बैठक के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने संवाददाताओं को बताया कि चर्चा का मुख्य मुद्दा संसद के समक्ष लंबित मुद्दे थे।

प्रधानमंत्री ने श्रीमती गांधी और डाॅ. सिंह के साथ जीएसटी विधेयक समेत कई विधेयकों पर विस्तृृत चर्चा की। उन्होंने बताया कि कांग्रेस नेतृत्व ने जीएसटी विधेयक से संबंधित तीन मुद्दे उठाये और सरकार ने इस पर अपनी दलील पेश की। श्री जेटली ने कहा, “अगर जरूरत पड़ी तो हम फिर बातचीत करेंगे।” प्रधानमंत्री कार्यालय ने एक बयान जारी कर कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष और पूर्व प्रधानमंत्री श्री मोदी से मिले। इस बैठक में शीर्ष मंत्रियों ने भी शिरकत की।

श्री मोदी ने सुबह श्रीमती गांधी और डॉ. सिंह को फोन कर चाय पर आमंत्रित किया था। संसद में प्रधानमंत्री के भाषण के बाद श्रीमती गांधी और डॉ. सिंह प्रधानमंत्री आवास पहुंचे और श्री मोदी से मुलाकात कर जीएसटी पर चर्चा की। सरकार जीएसटी जैसे महत्वपूर्ण विधेयक को शीतकालीन सत्र में ही पारित कराना चाहती है और श्री मोदी ने खुद कांग्रेसी नेताओं को फोन कर इस पर सहमति बनाने का प्रयास किया है।

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने बातचीत शुरू होने पर संतोष जाहिर किया लेकिन साथ ही कहा कि यह बातचीत काफी दबाव बनाने के बाद शुरू हुई है। गौरतलब है कि जीएसटी विधेयक लोकसभा में पारित हो चुका है और राज्यसभा में इसे पारित कराना मोदी सरकार के लिए चुनौती बना हुआ है। सरकार का इरादा जीएसटी को अगले वर्ष अप्रैल में लागू करना है। जीएसटी कर ढांचे में सबसे बड़ा सुधार माना जा रहा है और इससे अर्थव्यवस्था में दो प्रतिशत तक की वृद्धि होने का अनुमान व्यक्त किया जा रहा है।

Related Posts: