अब मध्यप्रदेश में मोहल्लेवार गुंडे हो गये हैं. ये आवारा होने के साथ शराब, ड्रग और जुआ खेलने के काम के साथ अपने मोहल्ले में ही लोगों से अड़ीबाजी करते हैं.

ऐसे लोग जो उनके मोहल्ले में गुमठी, ठेला और छोटी नौकरियां करते हैं उनसे कभी भी शराब व जुओं के लिए अड़ीबाजी से उनसे रुपये मांगते हैं. न देने पर मारपीट, छुराबाजी कर देते हैं.

अभी हाल ही में एक मिनीबस ड्राइवर से उसी के मोहल्ले के अड़ीबाज ने शराब के लिए रुपये मांगे और न देने पर यही पड़े पत्थर जान से मार दिया.

हबीबगंज स्टेशन के पास जिस छात्रा से गैंग रेप हुआ वे भी मोहल्ले के अड़ीबाज गुंडे थे जो वहां किसी को लूटने बैठे थे. दुर्भाग्य से यह लडक़ी वहां पहुंच गयी. इन्हें पुलिस की भाषा में लोकल गुंडे कहा जाता है.इनकी वजह से कहीं भी कभी भी लूट मार, हत्या, रेप व आदि अपराध हो रहे हैं.

Related Posts: