कश्मीर और हिमाचल में बर्फबारी का असर, ग्वालियर में तीव्र शीतलहर के आसार

भोपाल,

कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में हो रही बर्फबारी के प्रभाव के चलते मध्यप्रदेश के मौसम ने करवट बदल ली है. इसके चलते राज्य के अधिकांश स्थानों पर कड़ाके की ठंड पड़ रही है.५

मौसम के करवट बदलने से राज्य के महाकौशल अचंल में ठंड तो असर दिखा ही रहा है. साथ ही शीतलहर भी चल रही है. कल प्रदेश के तीन संभागों में से जबलपुर, सागर और रीवा में शीतलहर ने जनजीवन पर काफी असर डाला. नरसिंहपुर, श्योपुर कलां, उमरिया, खजुराहो एवं ग्वालियर में तीव्र शीतलहर से गुजरा.

स्थानीय मौसम विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिकों ने अनुमान जाहिर की है कि अगले 24 घंटों के दौरान प्रदेश के ग्वालियर जिले में तीव्र शीतलहर चल सकती है. इसके अलावा रीवा, जबलपुर, शहडोल, सागर और चंबंल संभाग के जिलों में कहीं-कहीं शीतलहर असर दिखा सकता है.

वैज्ञानिकों ने बताया कि मौसम का रूख अभी कम से कम दो दिनों तक ऐसा ही बना रह सकता है. दो दिनों के अंदर मौसम के मिजाज में बदलाव होने के आसार नजर नही आ रहे. इसके बाद ही मौसम में बदलाव आने की संभावना है. पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश के महाकौशल अंचल में न्यूनतम तापमान काफी गिरे.

शहडोल संभाग के जिलों में विशेषरूप से कम, जबलपुर संभाग के जिलों में सामान्य से काफी अधिक, रीवा व होशंगाबाद संभाग के जिलों में सामान्य से कम दर्ज किया गया.प्रदेश में सबसे कम न्यूनतम तापमान 02 डिग्री सेल्सियस उमरिया, खजुराहो और ग्वालियर में दर्ज किया गया.

राजधानी भोपाल में कल शाम के पहर से शुरू हुई कड़ाके की ठंड का असर आज सूरज के निकलने से पहले तक कामय रहा. इसके बाद ठंड का असर कम होता गया.

तापमान में कमी

राज्य के भोपाल, रतलाम, शाजापुर और पचमढ़ी में अधिकतम तापमान सामान्य से एक डिग्री कम दर्ज किया गया, वहीं इंदौर, खरगोन, सतना, खजुराहो, सागर और बैतूल में सामान्य से दो डिग्री कम, ग्वालियर, मलाजखंड, नौगांव, टीकमगढ में सामान्य से तीन कम, रायसेन, रीवा, सीधी व ग्वालियर में अधिकतम तापमान सामान्य से चार डिग्री कम, धार में 5 डिग्री कम तथा नरसिंहपुर और श्योपुरकलां में अधिकतम तापमान सामान्य से छह डिग्री कम दर्ज किया गया.

इसी तरह प्रदेश में जबलपुर, सागर और रीवा संभाग के तहत आने वाले जिलों में न्यूनतम तापमान दूसरे स्थानों की अपेक्षा कम दर्ज किया.

Related Posts: