gavaskarमुंबई,   भारत के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में आने की दहलीज पर खड़े युवा बल्लेबाजों को संतुष्ट होने के बजाय रन बनाने की भूख बढ़ाने और अपने प्रदर्शन में लगातार सुधार करने की सलाह दी है.

गावस्कर ने कहा कि मौजूदा दौर में प्रतिस्पर्धा बहुत बढ़ गई है और ऐसे में सिर्फ शतक लगाने भर से ही काम नहीं होगा. खिलाडिय़ों बड़ा स्कोर बनाने का लक्ष्य लेकर चलना चाहिए. ऐसा करने से ही आप चयनकर्ताओं की निगाह में आ सकेंगे. उन्होंने पत्रकारों से कहा कि मैंने मुंबई रणजी टीम के कोच चंद्रकांत पंडित को भी यही सलाह दी थी कि वह अपने खिलाडिय़ों को सिर्फ शतक मात्र से ही संतुष्ट नहीं होने की सीख दें. ऐसा करने से ना सिर्फ टीम के लिए बेहतर होगा बल्कि देश के लिए उनके खेलने की उम्मीदों को भी बल मिलेगा. आजकल कई टूर्नामेंट एक साथ चल रहे होते हैं और उसमें से कई लोग शतकीय पारी खेलते हैं, ऐसे में अगर आप दोहरा या तीहरा शतक जड़ेंगे तो चयनकर्ता भी आप पर ध्यान देंगे.
66 वर्षीय गावस्कर ने कहा कि राष्ट्रीय टीम तक पहुंचने के लिए आपको बाकियों से अलग दिखना होगा. आप अगर दोहरे या तिहरे शतक की पारी खेलते हैं तो आप की आगे की राह आसान हो सकती है. सैंकड़ा बनाने के साथ ही अच्छी गेंदबाजी जैसा हरफनमौला प्रदर्शन करने पर भी आप चयनकर्ताओं की निगाह में बमुश्किल ही आ सकते हैं.

Related Posts: