लखनऊ,  उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कुछ संशोधनों के साथ नई औद्योगिक नीति के ड्राफ्ट को स्वीकृति प्रदान कर दी है। मुख्यमंत्री ने कल देर रात यहां उत्तर प्रदेश औद्योगिक निवेश एवं रोजगार प्रोत्साहन नीति, 2017 के ड्राफ्ट प्रस्तुतिकरण के दौरान नीति से जुड़े सभी महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर तक विस्तृत विचार-विमर्श किया और अपने संशोधन सम्बन्धी सुझाव दिए।

श्री योगी द्वारा सुझाए गए संशोधनों को पूरा करने के बाद अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास विभाग की वेबसाइट पर आज अपलोड कर दिया जाएगा। वेबसाइट पर लोगों के सुझावों और आपत्तियों के मद्देनजर इस नीति को अन्तिम रूप प्रदान किया जाएगा। तत्पश्चात् इसे कैबिनेट में मंजूरी के लिए भेजा जाएगा।

इस नीति का उद्देश्य अधिक से अधिक उद्योगों की स्थापना, पूंजी निवेश, रोजगार सृजन और संतुलित आर्थिक विकास को बढ़ावा देना है। इसके लिए बुनियादी अवस्थापना सुविधाओं को उपलब्ध कराए जाने तथा प्रक्रियाओं का सरलीकरण किए जाने की व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाएं।

पूर्वांचल, बुन्देलखण्ड तथा अन्य पिछड़े क्षेत्रों में उद्योगों की स्थापना को प्रोत्साहन दिया जाए। सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योगों को बढ़ावा देने के साथ-साथ युवाओं में आत्मनिर्भरता तथा उद्यमशीलता को प्रोत्साहित करने पर विशेष फोकस हो।

Related Posts: