लखनऊ,  उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छता अभियान को प्रमोट करते हुए आज लखनऊ शहर के बालू अड्डे मोहल्ले में झाडू लगायी। राज्य के नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना के साथ गोमती तट पर बसे बालू अड्डे इलाके में पूरे लाव लश्कर के साथ पहुंचकर श्री योगी ने खुद झाडू लगायी और लोगों से साफ सफाई रखने की अपील की।

श्री योगी के पहुंचते ही आसपास के घरों के बच्चों और महिलाओं ने जिज्ञासावश उन्हें देखा। बालू अड्डे की सुनीता नामक महिला ने कहा कि इससे समाज में सकारात्मक असर पडेगा। श्री खन्ना का कहना था कि भारतीय जनता पार्टी सरकार मानती है कि आमतौर पर गंदगियों से ही बीमारी पनपती है, इसलिए साफ सफाई जरुरी है। योगी आदित्यनाथ ने जानलेवा बीमारी मस्तिष्क ज्वर (इंसेफेलाइटिस) का मूल कारण गंदगी बताया है।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री की कर्मभूमि गोरखपुर और उसके आसपास पूर्वांचल के क्षेत्रों में पिछले तीस वर्षो में एक लाख से अधिक बच्चों की मृत्यु हो चुकी है। साफ सफाई को अभियान के रुप में लेने की अपील करते हुए श्री खन्ना ने कहा कि श्री मोदी की सोच भी यही है। दूसरी ओर, केन्द्र सरकार के सर्वे में उत्तर प्रदेश के गोण्डा शहर को सबसे गंदा घोषित किये जाने के बाद श्री योगी के झाडू लगाने को लेकर लोग चटखारे लेते भी देखे गये।

बालू अड्डे पर ही श्री योगी को झाडू लगाते देखने पहुंचे राजेश ने कहा, “किसी अमीर के घर या उसके आसपास गंदगी नहीं रहती। आमतौर पर गंदगी गरीबों की बस्तियों में देखी जाती है। गंदगी से स्थायी निजात पाने के लिए गरीबी के खिलाफ अभियान चलना चाहिए। एक दिन झाडू लगाने से और मीडिया में आ जाने से सफाई नहीं होगी। सफाई अभियान को ग्रास-रुट तक ले जाने के लिए गरीबी से लडना ही होगा।”

Related Posts: