नयी दिल्ली,   सरकार ने योग को रोजगार परख बनाने की तैयारी शुरू कर दी है। स्वास्थ्य सचिव सीके मिश्रा ने आज यहां नेशनल हेल्थ एडिटर्स कांफ्रेस में कहा कि सरकार आम जन तक योग के फायदे पहुंचाने के साथ ही इसे रोजगार बनाने की तैयारी भी कर रही है ताकि लोगों को योग के स्वास्थ्य लाभ के साथ ही आर्थिक लाभ भी मिल सके।

श्री मिश्रा ने बताया कि अगले वर्ष से देश में योग की शिक्षा प्रदान करने के लिए बकायदा मेडकल कॉलेज खोले जायेंगे। उन्होंने कहा कि देश भर में स्थित आयुष मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश के लिए अगले वर्ष से राष्ट्रीय प्रवेश पात्रता परीक्षा(नीट) की तर्ज पर ही अखिल भारतीय स्तर पर प्रवेश परीक्षा आयोजित की जायेगी। श्री मिश्रा ने कहा कि सरकार भारतीय चिकित्सा पद्धतियों को बढ़ावा देने का हर संभव प्रयास कर रही है लेकिन इसका अर्थ यह नहीं है कि एलोपैथिक चिकित्सका पद्धति से उसका कोई दुराव है।

सरकार एलाेपैथिक और आयुष दोनों चिकित्सा पद्धतियों के समन्वय से देश में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाना चाहती है। इस अवसर पर योग के कई विशेषज्ञों ने मानव स्वास्थ्य के संबंध में योग विज्ञान के महत्व पर प्रकाश डाला। इस बार अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का आयोजन लखनऊ में होगा जिसमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी हिस्सा लेगें। योग दिवस 21 जून को मनाया जाता है।

Related Posts: