नयी दिल्ली/लखनऊ,  प्रधानमंत्री नरेंद्र माेदी ने आज अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर कहा कि आत्मा को मन और शरीर से एक साथ जोड़ने की योग की शक्ति ने पूरे विश्व को भारत के साथ जोड़ा है।

श्री मोदी ने लखनऊ में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर आयोजित मुख्य समारोह को संबोधित करते हुए कहा दुनिया के कई देश जो भारत की परंपरा और संस्कृति से वाकिफ नहीं थे वे भी आज योग के जरिये भारत से जुड़ रहें हैं।

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य के लिए कई बेहतर साधन और विकल्प हैं लेकिन मन की शांति और खुशी के लिए योग ही एकमात्र विकल्प है। उन्होंने कहा कि योग को लेकर आज दुनिया के किसी भी देश में कोई सवाल खड़े नहीं किए जा रहें हैं। पहले योग ऋषि-मुनियों और महात्माओं तक ही सीमित था लेकिन अब यह घर-घर और जन-जन तक पहुंच गया है।

इस अवसर पर उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि योग जीवन जीने की एक कला है और इसमें समाज को एकजुट बनाने की अदभुत ताकत है तथा यही ताकत विश्व को एकजुट कर रही है। इस मौके पर श्री मोदी और श्री आदित्यनाथ के अलावा उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य,राज्य सरकार के कई मंत्रियों ने भी योग सत्र में हिस्सा लिया।

गौरतलब है कि भारत सहित दुनिया के 150 देशों में आज योग दिवस मनाया जा रहा है। मुख्य समारोह लखनऊ के रमाबाई अंबेडकर मैदान में आयोजित किया गया। सुबह जोरदार बारिश हुयी लेकिन इसके बावजूद लोगों ने प्रधानमंत्री के साथ मिलकर योग किया। श्री मोदी ने इस दौरान लगभग 20 मिनट तक विभिन्न योगासन किए। उनकी लखनऊ यात्रा को लेकर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं।

राजधानी दिल्ली में मुख्य समारोह कनॉट पेलेस में आयोजित किया गया जहां उपराज्यपाल अनिल बैजल,मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्री वेंकैया नायडू ने योग सत्र का नेतृत्व किया।

लद्दाख में 18 हजार फीट की उंचाई पर शून्य से 25 डिग्री नीचे तापमान पर भारत-तिब्बत सीमा पुलिस के जवानों ने योग सत्र में हिस्सा लिया और मुंबई में युद्धक पोत आईएनएस विराट पर योग सत्र का आयोजन किया गया।

अहमदाबाद में मुख्यमंत्री विजय रूपाणी,भारतीय जनता पार्टी अध्यक्ष अमित शाह और योग गुरू रामदेव ने योग सत्र में हिस्सा लिया। असम में मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल और छत्तीसगढ़ के रायपुर में मुख्यमंत्री रमन सिंह ने योग सत्र में भाग लिया।

Related Posts: