arunनई दिल्ली,  वित्त मंत्री अरुण जेटली ने राजकोषीय घाटे को लेकर देश की जनता को आश्वस्त करते हुए कहा है कि राजकोषीय घाटा देश के लिए कोई चिंता का कारण नहीं है. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार विनिवेश के मोर्चे पर बहुत कठिनाई के बावजूद भी उसके घाटे को सीमित करने का निर्धारित लक्ष्य जरुर हासिल करेगी.

वित्त मंत्री ने कहा कि मैंने खुद जानबूझकर राजकोषीय घाटे का लक्ष्य बहुत हल्का रखा था जो 4.1 प्रतिशत से घट कर चार प्रतिशत हो गया है और यह 2015-16 के लिए 3.9 प्रतिशत रखा गया है.उन्होंने कहा है कि देश में राजस्व और व्यय की चाल को देखते हुए इससे कोई परेशानी नहीं हो सकती है.साथ हीं जेटली ने कहा है कि हमारी सरकार संसद के आगामी शीतकालीन सत्र में जीएसटी बील को पारित करने के लिए विपक्ष को मनाने की पूरी कोशिश भी करेगी.उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार एफडीआई के नियमों को और आसान बनाने में लगी है इसलिए हम ऐसी शर्तों को खत्म करेंगे जिसकी हमें आज के परिप्रेक्ष्य में जरूरत नहीं है.

Related Posts:

राष्ट्रपति की विदेश यात्राओं पर सबसे ज्यादा व्यय
सोने-चांदी में सुधार
शिवसेना पर बरसे अरुण जेटली: गुंडागर्दी बंंद करें
आतंकवाद से निपटने के लिये युद्ध ही एकमात्र विकल्प नहीं : सुषमा
राहुल, अखिलेश के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश में होगा चहुंमुखी विकास : वाड्रा
केजरीवाल और लालू विरोधियों पर बरसे शत्रुघ्न सिन्हा