bpl2भोपाल,  बिहार के बाद मध्यप्रदेश में भी उठ रही शराबबंदी की चहुंओर मांग के बीच आज राजधानी भोपाल के महापौर आलोक शर्मा भी राजधानी के एक व्यस्ततम क्षेत्र में खुली देसी शराब की दुकान को वहां से स्थानांतरित करने की मांग में शामिल हो गए।

राजधानी के इंटर स्टेट बस टर्मिनल (आईएसबीटी) पर खुली देसी शराब की दुकान को लेकर छात्राओं के विरोध के बीच महापौर श्री शर्मा ने कलेक्टर निशांत वरवडे से इस दुकान को अन्यत्र स्थानांतरित करने की मांग की। महापौर की मांग पर कलेक्टर ने इसे स्थानांतरित करने का आश्वासन दिया है। महापौर अब संबंधित मंत्री तक भी इस मुद्दे को पहुंचाएंगे।

महापौर श्री शर्मा ने यूनीवार्ता को बताया कि आईएसबीटी पर संचालित शराब की दुकान के पास स्थित कोचिंग सेंटर की छात्राओं ने उन्हें दुकान से हो रही परेशानी के बारे में सूचना दी। छात्राओं ने उन्हें वहां ज्ञापन लेने के लिए बुलाया। छात्राओं की मांग पर वे वहां पहुंचे और वहीं से कलेक्टर से आग्रह किया कि शराब दुकान को स्थानांतरित किया जाए। कलेक्टर ने उन्हें इस बारे में आश्वासन दिया है।
श्री शर्मा ने कहा कि अब वे इस बारे में प्रदेश के वाणिज्यिक कर मंत्री जयंत मलैया से भी आग्रह करेंगे कि शराब दुकानें इस प्रकार के क्षेत्र में नहीं खोली जाएं, जहां छात्राओं और महिलाओं का सतत् आना-जाना बना रहता हो।

राजधानी भोपाल के हबीबगंज स्थित इस आईएसबीटी परिसर में ही नगर निगम का परिषद् हॉल भी है। इसके अलावा इस व्यावसायिक परिसर से नजदीक कई कोचिंग संस्थान और अस्पताल भी हैं। बताया जा रहा है कि यहां पहले शराब दुकान एक टेंट में चलती थी, लेकिन अब इसे पक्का परिसर बना लिया गया है।

Related Posts: