railभोपाल,26 फरवरी,नभासं. रेल बजट में इस बार राजधानी को किसी नई ट्रेन की सौगात नहीं मिल सकी है. अगर एक-दो घोषणाओं को छोड़ दें तो प्राथमिकता पुरानी घोषणाओं को पूरा करना रही है.रेल बजट में इस बार सीधे तौर पर भोपाल रेल मंड़ल को कोई खास चीजें नहीं मिली हैं.

रेल मंत्रालय ने सभी जोन को रूकी योजनाओं को तय समय में पूरा करने के निर्देश दिए है. इसके साथ ही बजट भी आवंटित कर दिया है. खासबात यह हैं कि करीब चार साल से जिन घोषणाओं को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया था उन्हें दोबारा शुरू करने की बात भी कही है. पुरानी घोषणाओं के पूरा होने से मध्यप्रदेश में रेल नेटवर्क बढ़ जाएगा.

रेल बजट पर रही मिलीं मिली-जुली प्रतिक्रियाएं
रेलमंत्री सुरेश प्रभु के बजट से मध्यप्रदेश को कुछ खास हासिल नहीं हुआ. बजट में भले ही किराया नहीं बढ़ाया गया लेकिन, कोई नई ट्रेन भी नहीं चलाई गई, जिससे प्रदेश के कई नागरिकों को निराशा हाथ लगी है. इसी को लेकर से रेल बजट पर लोगों की मिली-जुली प्रतिक्रियाएं रही. जहां बजट में महिला सुरक्षा के लिए निर्भया भंड का इस्तेमाल और टोल फ्री नंबर जैसे कार्य को महिलाओं ने सराहा तो वहीं, दूसरी ओर कुछ लोगों ने भ्रष्टाचार रोकने और ऑनलाइन रिक्रूटमेंट परीक्षा में रेलवे को नाकाम बताया. कुछ ने सफाई योजना को सराहा, लेकिन नए ट्रेन की घोषणा नहीं होने से निराशा भी जताई.गृहणियों का कहना था कि सरकार ने रेलों में महिलाओं को लोअर बर्थ और निर्भया भंड का इस्तेमाल की सुविधा देकर बहुत ही अच्छा काम किया है. वहीं सुरक्षा के लिए टोल फ्री नंबर जारी करके रेलमंत्री ने अच्छे दिन लाने का प्रयास किया है.

Related Posts: