जयपुर,   राजस्थान के सवाईमाधोपुर जिले में आज सुबह बनास नदी में निजी बस गिर जाने से 33 लोगों की मौत हो गई तथा सात लोग घायल हो गए।

जिला कलेक्टर कैलाश चंद्र वर्मा ने बताया कि आज सुबह करीब सात बजे सवाईमाधोपुर से लालसोट के लिए सवारियां भर कर बस रवाना हुई थी। दुब्बी बनास पुलिया के पास तेज गति के कारण संतुलन बिगड़ जाने से बस नदी में गिर गई।

उन्होंन बताया कि हादसे में कुल 33 लोगों की मौत हुई है जिसमें 22 पुरुष 7 महिलाएं और 4 बच्चे शामिल है। हादसे में घायल सात लोगों को अस्पतालों में भर्ती कराया गया है जिनमें 4 महिलाएं एवं एक बच्चा भी है। उन्होंने बताया कि अब तक 31 शवों की शिनाख्त हो चुकी है जिसमें से सबसे अधिक 12 लोग सवाईमाधोपुर के ही हैं। बाकी लोग मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और बिहार के बताए जाते हैं।

मौके पर मौजूद प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि बस नदी में गिरते ही कोहराम मच गया। आसपास के लोग दौड़ कर घटनास्थल तक पहुंचे और स्थानीय लोगों ने नदी में उतर कर लोगों को निकालने का प्रयास किया लेकिन बस में खिड़कियों से लोगों को निकालना मुश्किल हो रहा था। इसके बाद प्रशासन की मदद से गैस कटर मंगवाया गया और बस को काटकर लोगों को बाहर निकाला गया। तब तक बस में पानी भर जाने से 33 लोगों की मौत हो चुकी थी।

इस बस में पीछे की ओर बैठी सवारियों में से कुछ लोगों की किस्मत अच्छी रही। बस आगे की ओर नदी में गिरी थी जिससे आगे का अधिकतर हिस्सा पानी में डूब गया जबकि पीछे का हिस्सा ऊपर रहने से कई सवारियों की जान बच गई।

पता चला है कि सवाईमाधोपुर और लालसोट के बीच मलारना चौड़ में बाबा साईंदास का आश्रम है जहां पर हर शनिवार को विशेष कार्यक्रम होता है जिसमें लोग दर्शन करने जाते हैं जिनमें से सवाईमाधोपुर से बाहर के भी लोग होते हैं। आज भी सवाईमाधोपुर से कई यात्री रेलगाड़ी से आए और लालसोट जाने वाली इस निजी बस में बैठ गए लेकिन दर्शन के लिए आश्रम पहुंचने से पहले ही बस नदी में डूब गई। यह बस आर जे 02 टीए 234 सवाईमाधोपुर के ही विनोद पांचाल की बताई जाती है। बस में घायल लोगों ने बताया कि इस निजी बस के पीछे रोडवेज बस चल रही थी, उससे पहले सवारियां लेने के चक्कर में चालक बस को तेज चलाकर ले जा रहा था।

Related Posts: