rajaनई दिल्ली, 1 जून. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 2जी स्पेट्रम आवंटन से संबंधित मनी लांडरिंग मामले की सुनवाई कर रही एक विशेष अदालत को बताया कि पूर्व दूरसंचार मंत्री ए. राजा ने अयोग्य कंपनियों को दूरसंचार लाइसेंस आवंटित करने के लिए अन्य आरोपियों के साथ साजिश रची.

ईडी के विशेष लोक अभियोजक आनंद ग्रोवर ने इस मामले में अंतिम बहस के दौरान विशेष न्यायाधीश ओ.पी. सैनी को बताया कि इसके लिए स्वान टेलीकॉम प्रा.लि. के प्रमोटरों ने कुसेगांव रियल्टी प्रा.लि. और सिनेयुग मीडिया एंड एंटरटेनमेंट के जरिए कलैगनार टीवी को 200 करोड़ रुपये का भुगतान किया था.

Related Posts: