pranabनई दिल्ली,  राज्यपालों की भूमिका पर पैदा हुए विवाद के बीच राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने मंगलवार को कहा कि संवैधानिक पदों पर बैठे सभी लोग संविधान की पवित्रता बरकरार रखें.

राष्ट्रपति भवन में राज्यपालों के दो दिवसीय सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए प्रणब ने कहा, हमारा देश आजादी के बाद मजबूत से मजबूत होता गया है. हमारे संविधान में शामिल सिद्धांतों के दृढ़तापूर्वक पालन की वजह से यह संभव हो सका है. यह एक चिरस्थायी दस्तावेज है जो हमारी आकांक्षाओं और उन्हें समावेशी तरीके से प्राप्त करने को लेकर हमारी विस्तृत रूपरेखा को प्रदर्शित करता है. प्रणब ने कहा, संवैधानिक पदों पर बैठे हम सभी लोगों का कर्तव्य है कि हम इस पवित्र ग्रंथ की पवित्रता बरकरार रखें. अरुणाचल प्रदेश में राज्यपाल जेपी राजखोवा की भूमिका के मुद्दे पर पैदा हुए विवाद की पृष्ठभूमि में राष्ट्रपति की अपील काफी अहमियत रखती है.

 

Related Posts:

3 जून को अनशन, रामदेव-अन्ना साथ-साथ
युवाओं में भाईचारे, प्रेम एवं सहानुभूति का भाव पैदा करें: प्रणव
सदन में गूंजा रोहित और राष्ट्रद्रोह का मुद्दा
गरीबों को दबाने की नीति छोड़े सरकार : राहुल
आरक्षण पर सफाई देने की बजाय भाजपा नेताओं की व्यर्थ बयानबाजी पर अंकुश लगाये प्रधा...
हरियाणा विधान सभा में जाट आरक्षण विधेयक पारित