arunनयी दिल्ली,  वित्त मंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को कहा कि उन्हें लगता है कि संसद के ऊपरी सदन राज्यसभा में (जीएसटी) विधेयक के पक्ष में बहुमत बन चुका है.

जेटली ने यहाँ एक निजी मीडिया हाउस द्वारा आयोजित कार्यक्रम में चर्चा के दौरान कहा Þमुझे लगता है कि राज्यसभा में भी जीएसटी के पक्ष में बहुमत बन चुका है. सिर्फ एक ही पार्टी (काँग्रेस) है जो इसका विरोध कर रही है. वह भी एक संशोधन के साथ इसका समर्थन करने पर तैयार हो सकती है.Þ

उन्होंने कहा कि कांग्रेस जीएसटी की दर संवैधानिक दस्तावेज में तय करने की माँग पर अड़ी हुई है, लेकिन सरकार यह नहीं कर सकती.
वित्त मंत्री ने कहा कि यदि जीएसटी की दर संवैधानिक दस्तावेज में तय कर दी गई तो भविष्य में इसे बदलना टेढ़ी खीर हो जायेगी क्योंकि इसके लिए संविधान संशोधन की जरूरत होगी. उन्होंने कहा कि जीएसटी में राज्य और केंद्र सरकार दोनों का कर का हिस्सा होता है और इसे तय करने का अधिकार जीएसटी परिषद् को होना चाहिये जिसमें दोनों का प्रतिनिधित्व होगा.

जेटली ने कहा कि वह इस मुद्दे पर कांग्रेस से बातचीत के लिए हमेशा तैयार हैं. उन्होंने बताया कि कांग्रेस शासित राज्यों की सराकरों से उन्होंने स्वयं बात की है और सभी राज्य जीएसटी का समर्थन कर रहे हैं. इसके अलावा संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन के सभी घटक दल भी इसके पक्ष में हैं. उन्होंने दावा किया कि जीएसटी, दिवालिया कानून, मोटर वाहन कानून जैसे कुछ सुधारों को छोड़कर सरकार ने शेष सभी महत्वपूर्ण नीतिगत सुधारों को सफलतापूर्वक लागू कर दिया है.