modiनई दिल्ली,  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रवाद को पार्टी की ताकत बताते हुए रविवार को कहा कि उनकी सरकार के 22 महीने के कार्यकाल में अब तक राजनीतिक और आर्थिक भ्रष्टाचार का कोई भी आरोप नहीं लगा है।

भाजपा कार्यकर्ताओं को चाहिए कि वे विपक्ष द्वारा उठाये जा रहे व्यर्थ के मुद्दों में न फंसकर पार्टी के हित को आगे बढ़ाते रहे। मोदी ने भाजपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी की दो दिवसीय बैठक का समापन करते हुए कहा, ’22 महीने के राजग सरकार के कार्यकाल में भ्रष्टाचार का कोई आरोप नहीं लगा है।

आर्थिक भ्रष्टाचार ही नहीं कोई राजनीतिक आरोप भी सरकार पर नहीं लगा है। राष्ट्रवाद हमारी ताकत है और उसी को लेकर आगे बढ़ेंगे।’ राष्ट्रवाद पर किसी भी कीमत पर कोई समझौता नहीं किया जाएगा. गृह मंत्री और पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने राष्ट्रीय कार्यकारिणी के बाद संवाददाताओं को मोदी के भाषण के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि मोदी ने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा, ‘आप लोग व्यर्थ के मुद्दों में ना उलझें, अपना काम करते रहें।’

सिंह ने हालांकि इस सवाल का जवाब देने से इंकार कर दिया कि क्या भाजपा के लिए अब राम मंदिर, अनुच्छेद 370 और समान नागरिक संहिता भी व्यर्थ के मुद्दे हो गये हैं? मोदी ने आगाह किया कि सरकार के विकास कार्य कुछ लोगों को रास नहीं आ रहे हैं और उसके अभूतपूर्व कार्यों से ध्यान भटकाने के लिए व्यर्थ के मुद्दे उछालकर उलझाने की कोशिश कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि विपक्ष का मकसद है कि सरकार के विकास के कार्य जमीनी हकीकत नहीं बनने पायें और पार्टी कार्यकर्ताओं को चाहिए कि विरोधियों के ऐसे उलझाने वाले प्रयासों से अप्रभावित रहें।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार का एक ही मूल मंत्र है और वह है विकास, विकास और विकास क्योंकि सभी समस्याओं का यही समाधान है। विकास का चक्का तेजी से चल पड़ा है और बदलाव आ रहे हैं। उन्होंने कार्यकर्ताओं का आह्वान किया कि वे समाज के सभी वर्गों को जोडऩे के साथ ही बुद्धिजीवियों तक भी अपनी पहुंच बनायें।

Related Posts: