सूचना देने पर 2 घंटे देरी से पहुंचा अमला

हितेश जैन
पोहरी,

पोहरी क्षेत्र में इन दिनों पशु-पक्षियों के शिकारों में लगातार बढ़त मिल रही है जहाँ एक तरफ वन-विभाग द्वारा लगातार बन पशु.पक्षियों की सुरक्षा की बात करता है बही उसी क्रम में पोहरी बन परिक्षेत्र क्षेत्र के अंतर्गत शिकार के मामले मिलते जा रहे है जहाँ कई मामलों को मिलिभगत कर दबा दिया जाता है।

घटनाक्रम अनुसार कल दरमियानी रात करीब 7 बजे ग्राम बमरा में 2 शिकारियों द्वारा आश्रम में मोरो का शिकार किया, जैसे ही आश्रम में साधु को इस बात की भनक लगी तो साधु द्वारा शिकारियों का पीछा किया और शिकारी आनन-फनन में एक मोर को ले भागे।

गाँव मे जब इस बात का पता चला तो ग्रामीणों ने डायल 100 को सूचना दी बही पोहरी रेंजर भी मौके पर पहुच कर घटनास्थल का मौका मुआयना किया और दोनों मोरो को पीएम के लिए भेज दिया गया है। बही चश्मदीद दुर्गादास ने बताया कि बमरा के 2 लोगो ने 3 मोरो का शिकार किया थाए दोनों शिकारी अभी तक फरार है।

पूर्व में भी हो चुके हैं कई शिकार

पोहरी बनपरिक्षेत्र के अंतर्गत इस समय शिकारियों के हौसले इतने बुलंद है कि बिभाग की गश्ती से कोई डर नही है। बही आज कल दोपहर में ही शिकार होने के मामले सामने आने लगे है। पोहरी के समीप ग्राम बमरा में 3 मोरो का अज्ञात लोगों द्वारा शिकार कर लिया जिसमें से 2 मोर बरामद कर ली गई है।

ग्रामीणों के अनुसार पूर्ब में इस जगह करीब 150 मोर थी जिनका शिकार होते होते 20-25 रह गई है। बन मंडल के क्षेत्रीय अधिकारियो पर सवालिया निशान उठता है कि आखिर क्यों गश्त नही किये जाते। अधिकारियों की लापरबाही से इस क्षेत्र में राष्ट्रीय पक्षी मोर के विलुप्ति का कारण बन सकती है।