rahulनई दिल्ली, 22 अप्रैल. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी आत्ममंथन से लौटने के बाद एक नए तेवर में नजर आ रहे हैं. राहुल के इस नए अंदाज से जहां एक ओर सत्ता पक्ष के लोग परेशान हैं वहीं दूसरी ओर कांग्रेस के दिग्गज रणनीतिकार उनके इस बदले रूख को पार्टी के भविष्य के लिए बेहतर संकेत मान रहे हैं. राहुल गांधी जब से वापस आए हैं लगातार किसी न किसी रूप में संगठन को धारदार बनाने की दिशा में कुछ न कुछ कर रहे हैं. दिल्ली में आयोजित किसान रैली में जिस तरह से उन्होंने नरेन्द्र मोदी सरकार पर सीधा हमला बोला उससे साफ हो गया था कि न सिर्फ राहुल गांधी बदल गए हैं बल्कि उनका राजनीति करने का अंदाज भी एकदम बदल गया है.

इसके बाद संसद में जिस तरह से उन्होंने प्रधानमंत्री को उनके ही अंदाज में घेरा उसको देखकर न सिर्फ सत्ता पक्ष के लोग हैरान थे बल्कि पार्टी के अंदर उनके बारे में नकारात्मक सोच रखने वाले भी मंत्रमुग्ध दिखे. पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि सरकार के वरिष्ठ मंत्रियों की ओर से दी जा रही टिप्पणियां इस बात को प्रमाणित करने के लिए काफी है कि राहुल गांधी अब सरकार को हरेक मोर्चा पर चुनौती देने लगे हैं. उक्त नेता ने कहा कि संसद से लेकर सड़क तक जिस तरह से राहुल गांधी अपने आपको आगे रखकर पार्टी को नेतृत्व दे रहे हैं उससे न सिर्फ सुस्त पड़े नेताओं में जोश का संचार हो गया है बल्कि उनके सांगठनिक व राजनीतिक सोच पर सवाल उठाने वाले लोगों को स्पष्ट जवाब भी मिलने लगा है.

प्रवेश कुमार मिश्र

Related Posts: