viratबेंगलुरु,  आईपीएल के एक संस्करण में 1000 के करीब रन बनाने के बाद रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के कप्तान और धुरंधर बल्लेबाज विराट कोहली ने कहा कि रिकॉर्ड बनते ही टूटने के लिये हैं और एक दिन उनका यह रिकार्ड भी कोई और बल्लेबाज तोड़ेगा.

बेंगलुरु को रविवार को खेले गये आईपीएल-9 के फाइनल मुकाबले में सनराइजर्स हैदराबाद के हाथों आठ रन के नजदीकी अंतर से शिकस्त का सामना करना पड़ा और उसके विजेता बनने के सपने एक बार फिर चकनाचूर हो गये. हालांकि हार के बाद बेंगलुरु के कप्तान विराट ने कहा कि जिस तरह उनकी टीम खेली, उन्हें उस पर गर्व है. मैच के बाद विराट ने कहा, जिस तरह टूर्नामेंट में हमारी टीम ने खेल दिखाया, उस पर हमें गर्व है. यह उपलब्धि बेंगलुरुवासियों को समर्पित है. हम आज का मुकाबला हार गए लेकिन जनता का समर्थन हमे प्राप्त रहा. मैं निराश हूं कि मैच नहीं जीत सके. डेन (डेनियल विटोरी) ने मुझे कहा कि 200 रन बनाने के बावजूद हम हार गए लेकिन प्रशंसकों का समर्थन शानदार रहा. मैच में अपने और एबी डीविलियर्स के विकेट को अहम बताते हुये विराट ने कहा, मेरा और एबी डी का कम अंतराल में आउट होना बड़ा झटका रहा. अगर मैं और एबी टिके होते तो मुकाबला हमारे पक्ष में होता.

मैं सनराइसर्ज को जीत की बधाई देना चाहता हूं. वह इस खिताब के प्रबल दावेदार हैं. विराट को एमवीपी (मोस्ट वैल्यूएबल प्लेयर) ऑफ द टूर्नामेंट तथा टूर्नामेंट में सर्वाधिक छक्के मारने का अवॉर्ड सहित ऑरेंज कैप भी मिली. ऑरेंज कैप हसिल करने के बाद विराट ने कहा, यह अच्छा प्रोत्साहन है लेकिन हारने के कारण अच्छा महसूस नहीं कर रहा हूं. सनराइजर्स का गेंदबाजी आक्रमण शानदार है. मुझे पता था कि गेंद पर अच्छे से प्रहार कर रहा हूं और मुझे लगातार योगदान देना है. यह मेरी निजी उपलब्धि है लेकिन अहम बात यह है कि हम फाइनल में पहुंचे.

यह पूछने पर कि 16 मैचों में 88.45 की औसत और 152.26 की स्ट्राइक रेट के साथ 973 रन बनाने का रिकॉर्ड टूटेगा तो विराट ने जवाब दिया, क्यों नहीं, रिकॉर्ड बनते ही टूटने के लिए हैं. चार शतक जडऩे के बारे में कोहली ने बताया कि इस मामले में वह खुद आश्चर्यचकित हैं. उन्होंने पारी की शुरुआत की शायद इसलिए कामयाब रहे. उन्होंने कहा कि तीसरे या चौथे क्रम के बल्लेबाज के लिए शतक बनाना आसान नहीं होता.

दिल्ली के 27 वर्षीय विराट ने साथ ही कहा कि उन्हें इन उपलब्धियों से ज्यादा खुशी टीम के बढऩे पर होती है और चैंपियंस लीग को मिलाकर चौथा फाइनल हारने से वह बेहद निराश हैं. विराट ने आईपीएल के इस सत्र का समापन 973 रनों के साथ किया. वह आईपीएल ही नहीं दुनिया के किसी एक टूर्नामेंट के एक सत्र में 1000 रन पूरे करने वाला पहला बल्लेबाज बनने से मात्र 27 रनों से चूक गये.

Related Posts: