rioरियो डि जेनेरो,  रियो पैरालंपिक खेलों के ऊंची कूद टी-42 स्पर्धा में भारतीय पैरा एथलीट मरियप्पन थांगावेलू ने स्वर्ण और वरुण भाटी ने इसी प्रतिस्पर्धा में कांस्य पदक जीतकर भारत का रियो पैरालंपिक में पदकों के जीतने का खाता खोल दिया है।

पैरालंपिक खेलों के दूसरे दिन थांगावेलू ने 1.89 मीटर की छलांग लगाते हुए स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया तो वहीं भाटी ने 1.86 मीटर की छलांग लगाकर कांस्य पदक अपने नाम किया। इस स्पर्धा का रजत पदक अमेरिका के सैम ग्रेवी को मिला। उधर, भारत के ही संदीप भाला फेंक स्पर्धा का कांस्य पदक जीतने से चूक गए और वह चौथे स्थान पर रहे। तमिलनाडु के 20 वर्षीय थांगावेलू पहले भारतीय पैरा एथलीट बन गये हैं जिन्होंने ऊंची कूद स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता है।

इससे पहले इस स्पर्धा में एचएन गिरीशा ने 2012 के लंदन पैरालंपिक खेलों में पदक जीता था। थांगावेलू पैरालंपिक खेलों में मुरलीकांत पेटकर (स्वीमिंग 1972 हेजवर्ग) और देवेंद्र झाझरिया (भाला फेंक, एथेंस 2004 ) के बाद पैरालंपिक खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाले तीसरे भारतीय पैरा एथलीट बन गये हैं।

Related Posts: