गांधीनगर,

गुजरात में लगातार छठी बार सत्ता में आयी भाजपा की सरकार के शपथ ग्रहण समारोह में आज मुख्यमंत्री विजय रूपाणी तथा उपमुख्यमंत्री नीतिन पटेल के अलावा कैबिनेट स्तर के आठ और राज्य स्तर के दस मंत्रियों को राज्यपाल ओ पी कोहली ने यहां सचिवालय मैदान पर पद और गोपनीयता की शपथ दिलायी।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के अलावा नीतिश कुमार, योगी आदित्यनाथ समेत भाजपा और राजग शासित 18 राज्यों के मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री और राजनाथ सिंह, नीतिन गडकरी, रामविलास पासवान समेत कई केंद्रीय मंत्रियों और लालकृष्ण आडवाणी, पूर्व मुख्यमंत्री शंकरसिंह वाघेला, केशुभाई पटेल की मौजूदगी में यहां सचिवालय मैदान पर आयोजित इस समारोह में रूपाणी मंत्रिमंडल के गठन में जातिगत और क्षेत्रीय संतुलन भी साधने का पूरा प्रयास किया गया।

आज शपथ लेने वाले मंत्रियों में उपमुख्यमंत्री समेत पांच कैबिनेट स्तर के और कुल मिला कर छह मंत्री पाटीदार समुदाय के हैं। इसके अलावा कैबिनेट स्तर पर एक आदिवासी, एक दलित, एक ओबीसी और एक क्षत्रिय को शामिल किया गया है।

दस राज्य मंत्रियों में एक पाटीदार, पांच ओबीसी, दो क्षत्रिय, एक आदिवासी और एक ब्राह्मण हैं। कुल मिला कर केवल एक महिला को ही मंत्रिमंडल में जगह दी गयी है। मुख्यमंत्री रूपाणी स्वयं जैन समुदाय से आते हैं। मंत्रि परिषद में कुल मिला कर छह पाटीदार, छह ओबीसी, तीन क्षत्रिय, एक ब्राह्मण, दो आदिवासी और एक दलित को जगह मिली है।

क्षेत्रवार तीन कैबिनेट और इतने ही राज्य मंत्री सौराष्ट्र-कच्छ से हैं। दक्षिण गुजरात से दो कैबिनेट और तीन राज्य मंत्री हैं। उत्तर और मध्य गुजरात से उपमुख्यमंत्री को शामिल करते हुए क्रमश: चार और चार मंत्री कैबिनेट और राज्य स्तर के हैं।

इस बार सरकार में बतौर कैबिनेट और राज्य मंत्री चार चार नये चेहरों यानी कुल आठ नये चेहरों को शामिल किया गया है। पिछली बार मंत्री रहे वल्लभ काकड़िया और राजेन्द्र त्रिवेदी को इस बार जगह नहीं मिली है पर अब भी मंत्रिपरिषद में 7 स्थान खाली होने से उनके अलावा वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष जीतू वाघाणी को भी मंत्रिमंडल विस्तार के दौरान सरकार में शामिल करने की अटकले लगायी जा रही हैं।

Related Posts: