मास्को,

रूस के साइबेरिया प्रांत के केमीरोवा शहर के शॉपिंग मॉल में लगी आग में मृतकों की संख्या बढ़कर कम से कम 64 तक पहुंच गयी है। इनमें बच्चे भी शामिल हैं। रूस के आपातकालीन सेवाओं के मंत्रालय ने आज यह जानकारी दी।

रूस की आपात सेवा ने कहा है कि कल दोपहर को लगी आग बुझा दी गयी है लेकिन बचावकर्मियों काे मॉल की ऊपरी मंजिलों में पहुंचने में मुश्किलें आ रही हैं, क्योंकि आग लगने के बाद इमारत की छत ढह गई है।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मरने वालों में बच्चे भी शामिल हैं और 10 लोग अभी तक लापता हैं। इस शापिंग माल में सिनेमा भी हैं और फिल्म के प्रदर्शन के दौरान ऊपरी विंटर चेरी कांप्लेक्स में आग लग गई। इस आग के कारण दो सिनेमाघरों की छतें गिरने से लोगों में दहशत फैल गई और लोग आग से बचने के लिए खिड़कियों से नीचे कूदने लगे।

आग लगनेे के कारणों का अभी तक पता नहीं चल पाया है लेकिन मामले की जांच शुरू कर दी गई है। यहां के डिप्टी गवर्नर व्लादिमिर चेरनोव ने बताया कि आग बच्चों के एक कमरे से शुरू हुई। माना जा रहा है कि एक बच्चे के पास सिगरेट लाइटर था जिसकी वजह से रबर के इस कमरे में आग लग गई।

इस अाग को बुझाने में आपातकालीन विभाग के 660 कर्मचारी लगाए गए और आग इतनी भीषण थी कि इसे बुझाने में 17 घंटे से अधिक का समय लगा।

यह शापिंग सेंटर 2013 में खुला था और इसमें मल्टीप्लेक्स सिनेमाघर, रेस्तरां और पालतू जानवरों को रखने वाले छोटे कक्ष भी थे। आग में सभी जानवराें के मारे जाने की खबर है।

स्वास्थ्य मंत्री वेरोनिका स्कवोर्तसोवा ने बताया आग में 11 लोग झुलस गए हैं जिन्हें उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। ये सभी घुटन का शिकार हुए हैं। सबसे दर्दनाक केस एक 11 वर्षीय बच्चे का है जिसके माता पिता की आग में मौत हो गई है। इस सेंटर में कल शाम पांच बजे आग लगी और इमारत का पूरा क्षेत्र 1500वर्ग मीटर है।

मामले की जांच कर रही समिति ने पूछताछ के लिए चार लोगों को हिरासत में लिया है जिनमे इसका प्रबंधन करने वाली कंपनी का प्रमुख और विंटर चेरी कांप्लेक्स का मालिक भी शामिल है।

रूसी अधिकारियाें ने पहले इस हादसे में लापता होने वालों की संख्या 64 बताई थी लेकिन बाद में स्पष्ट किया कि इसमें वे लोग भी शामिल हैं जिनकी पहचान नहीं हो सकी है। अभी तक कम से कम नौ बच्चों के शव बरामद कर लिए गए हैं।

रूस के राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन केन्द्र के उप प्रमुख एंदेरी ममचेनकोव ने बताया कि अभी तक 41 बच्चाें का कोई पता नहीं चल सका हैप्रशासन ने मॉल के नजदीक स्कूल में पूछताछ केंद्र स्थापित किया है जहां से लोग अपने लापता संबंधियों और परिवार के सदस्यों के लिए पूछताछ कर सकते हैं।

मॉल के भीतर की वीडियो फुटेज में लोग धुएं से भरी मॉल की सीढ़ियों पर आपातकालीन खिड़की को तोड़ने का प्रयास करते हुए दिखायी दे रहे हैं लेकिन यह जाम दिखाई प्रतीत हो रही थी।

Related Posts:

मंगल पर उतरा नासा का मार्स रोवर क्यूरियोसिटी
सैफ की लाडली सारा रुपहले परदे पर देंगी दस्तक
सातवें आसमान पर बाजार
नेपाल फिर बनेगा हिंदू राष्ट्र, संविधान से हटेगा धर्मनिरपेक्ष शब्द
हत्यारों द्वारा गांधी को याद करना उनकी विचारधारा की जीत : कांग्रेस
कांग्रेस ने पूर्वोत्तर की जरूरतों को ध्यान में रखे बिना बनायी योजनाएं: मोदी