नई दिल्ली. केन्द्रीय रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि सपंर्क में इजाफा करने के लिए बहुत अधिक निवेश के साथ देश के रेल नेटवर्क को बढ़ावा मिले तो इससे देश की अर्थव्यव्स्था में बड़े पैमाने पर सुधार हो सकता है. इससे भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर 2 से 3 प्रतिशत अधिक हो जाएगी. प्रभु ने यह बात बीती रात एक समारोह के दरमियान कही.

रेल मंत्री ने कहा कि रेलवे में निवेश को बढ़ाने से भारत की अर्थव्यवस्था में दो से तीन प्रतिशत तक बढ़ोतरी दर्ज होगी. ऐसा इसलिए भी है क्योंकि देश की पूर्ण वृद्धि की संभावना के दोहन के लिए परिवहन क्षेत्र में बड़े स्तर पर सुधार बहुत आवश्यक है. इस बात पर उन्होंने देश के सामने चीन का उदाहरण रखा. बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कहा कि चीन में रेलवे के क्षेत्र में विशाल निवेश किया गया है. ऐसा करके चीन ने उस बात को सिद्ध कर दिया कि कोई भी देश अन्य देशों से संपर्क को बढ़ाकर विकास में तेजी को ला सकता है.

प्रभु ने भारतीय रेल की सबसे बड़ी समस्या की ओर इशारा किया. उन्होंने कहा कि भारतीय रेल की सबसे बड़ी समस्या है भीड़-भाड़. इसी वजह से रेलवे के सारे विकास रुक जाते हैं. सुरेश प्रभु ने आगे कहा कि इसी कारण से रेल भवन में एजेंटों का भटकना अभी भी जारी है. रेल मंत्री अब सिर्फ नीति कार्यान्वयन पर काम करते हैं. इतना ही नहीं अगर जरूरत हो तो निर्णय प्रक्रिया की शक्ति का विकेंद्रीकरण पारदर्शी प्रशासन के ही हित में है.
हाल ही में मंत्रिमंडल में 400 रेलवे स्टेशन की विस्तृत विकास योजना को पूरी तरह से मंजूरी दे दी गई है.

Related Posts: