pranabग्वालियर,  राष्टï्रपति प्रणव मुखर्जी ने कहा है कि अब रोटी, कपड़ा और मकान के स्लोगन को बदलना होगा इसमें शिक्षा और स्वास्थ्य को भी जोडऩा है जिससे सभी को बराबरी के साथ विकास में भागीदारी का मौका मिल सके.

राष्टï्रपति श्री मुखर्जी आज यहां जीवाजी विश्वविद्यालय के जिम्नेजियम हाल में सबके लिये आवास योजना के अंतर्गत तैयार किये गये 1088 आवासों के लोकार्पण समारोह को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने सिंधिया नगर में बनाये गये आवासों का लोकार्पण करने के साथ ही 6 हितग्राहियों को आवास की चाबी सौंपी. समारोह में प्रदेश के राज्यपाल ओपी कोहली, केंद्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, नगरीय प्रशासन मंत्री माया सिंह, उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया, महापौर विवेक शेजवलकर मंचासीन थे.

राष्टï्रपति श्री मुखर्जी ने कहा कि देश के युवाओं में ताकत है और इस ताकत का विकास में योगदान लेने के लिये हमें रोटी, कपड़ा, मकान के साथ शिक्षा और स्वास्थ्य पर भी ध्यान देना होगा. उन्होंने कहा कि एक दौर में नारा हुआ करता था कि रोटी, कपड़ा, मकान/मांग रहा है हिन्दुस्तान लेकिन अब इसमें शिक्षा और स्वास्थ्य को भी जोडऩा होगा.

उन्होंने कहा कि घर का सपना गरीब हो या अमीर सभी का होता है. हमारे यहां लोकतंत्र मजबूत है और सपने भी पूरे हो रहे हैं. समारोह में केंद्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि गरीबों को 2022 तक आवास देने के लिये तेजगति से कार्य हो रहा है और राष्टï्रपति की मंशा के अनुरूप सभी को आवास मिलेंगे. उन्होंने राष्टï्रपति श्री मुखर्जी से जीवाजी विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में भी आने का अनुरोध किया. समारोह में बड़ी संख्या में हितग्राही मौजूद रहे जिनमें से चुनिंदा 6 हितग्राहियों को आवास की चाबी राष्टï्रपति द्वारा सौंपी गयी.

Related Posts: