• बीएचईएल को मिले तीन नए आर्डर
  • दो साल के बाद संकट गहराने के आसार

महेश्वरी प्रसाद मिश्र
भोपाल.

भेल के लिए 2013 वह स्वर्णिम समय था जब कंपनी का राजस्व 50 हजार करोड़ पहुंच गया था. और तब बीएचईएल ने सपना देखाा था कि वह आगामी समय में एक लाख करोड़ की कंपनी बन जाएगी.

लेकिन वित्त वर्ष 2016-17 में कंपनी का राजस्व लगभग 30 हजार करोड़ रहा. और भविष्य में इसका टर्नओवर घटकर 15 से 20 हजार करोड़ हो सकता है. हां भेल के लिए राहत भरी खबर यह है कि हाल ही में कंपनी को तीन नए आर्डर मिले हैं.

नहीं होगी नई भर्ती

गौरलतब है कि भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड की देशभर में कुल 17 यूनिटें हैं. भोपाल भेल की बात करें तो यहां 9 ब्लॉक हैं. भेल मुख्यत: 3 सेक्टरों में काम करता है. सबसे ज्यादा 70 प्रतिशत उत्पादन पावर प्लांट में. ट्रांस्पोर्टर सेक्टर (रेलवे) और मेट्रो में 30 प्रतिशत निर्माण करता है.

चूंकि कंपनी मुख्यत: थर्मल पावर प्लांट के संयंत्र बनाती है और वर्तमान में पावर सेक्टर में जबरदस्त मंदी है जिसका असर भेल पर पड़ रहा है. फिलहाल भेल भोपाल में 6 हजार नियमित और 3 हजार ठेका श्रमिक कार्यरत हैं. लेकिन भविष्य में नई भर्तियां होने की संभावना ना के बराबर है.

Related Posts: