किशोरी बोली- मुझे मिलना है, जीवन में कुछ करना चाहती हूं

  • पुलिस ने किया गिरफ्तार

नवभारत न्यूज भोपाल,

दसवीं में पढऩे वाली छात्रा फिल्म अभिनेता सलमान खान की इस तरह मुरीद हुई कि वह बैरसिया से सलमान खान से मिलने मुंबई बांदा स्थित बंगले पर पहुंच गई.

इतना ही नहीं किशोरी ने सुरक्षा को धता बताते हुए बंगले में अंदर प्रवेश भी कर लिया, लेकिन फिर सुरक्षा में तैनात जवानों ने पकडक़र पुलिस के हवाले कर दिया. बांद्रा पुलिस ने पूछताछ की तो किशोरी ने पूरी जानकारी दी. इसके बाद बांद्रा पुलिस ने बैरसिया पुलिस से संपर्क किया. बैरसिया से पुलिस की टीम किशोरी के परिजनों को साथ लेकर वहां के लिए रवाना हो गई है.

पुलिस के मुताबिक 16 वर्षीय छात्रा तरावली की रहने वाली है. वह दसवीं की छात्रा है. सोमवार को वह परिजनों से स्कूल में छात्रवृत्ति लेने के लिए कहकर निकली थी. शाम तक जब वह घर नहीं पहुंची तो परिजनों ने काफी तलाशा फिर बैरसिया थाने में जाकर गुमशुदगी का मामला दर्ज कराया था, साथ ही परिजनों ने अपहरण की आशंका जाहिर की थी.

पुलिस जब जांच पड़ताल में जुटी थी तभी मुंबई बांद्रा पुलिस ने संपर्क किया और बताया कि संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हुई किशोरी वहां पर पहुंच गई है. पुलिस को मुंबई पुलिस ने बताया कि किशोरी को उस वक्त सलमान खान के बंगले से पकड़ा गया जब वह अभिनेता खान के बैंड स्टेंड स्थित गैलेक्सी अपार्टमेंट में मकान की दीवार फांदकर अंदर घुस गई थी.

इसके बाद पुलिस हरकत में आई और किशोरी के परिजनों को जानकारी दी. इसके बाद बैरिसया पुलिस की टीम किशोरी को लेने के लिए वहां पर रवाना हो गई है. पुलिस से पूछताछ में किशोरी ने कहा कि वह सलमान खान से मिलना चाहती है और जीवन में कुछ करना चाहती है.

हर रोज जाती थी शूटिंग देखने

पुलिस केमुताबिक बैरसिया में कुछ समय से फिल्म उड़ान की शूटिंग चल रही है, शूटिंग को देखने के लिए छात्रा रोजाना जाती थी, इतना ही नहीं घर पहुंचने पर वह फिल्म में चल रही शूटिंग के बारे में परिजनों का बातती थी, साथ ही चल रही शूटिंग की तरह हरकतें करती थी. पुलिस को पूछताछ में परिजनों ने यह बात बताई है.

छात्रा के गुम होने पर अपहरण और गुमशुदगी का मामला दर्ज किया गया था, लेकिन मंगलवार को बांद्रा पुलिस से जानकारी मिली कि छात्रा अभिनेता सलमान खान के घर पर दीवाल फांदकर घुस गई थी. यहां से एक टीम किशोरी को लेने के लिए रवाना कर दी गई है. किशोरी वहां पर कैसे पहुंची, आने के बाद उससे जानकारी करेंगे.
-संजीव पाठक, एसडीओपी, बैरसिया

Related Posts: