पुरानी सब्जी मंडी से तहबाजारी वसूलने को लेकर विवाद

  • वक्फ की संपत्ति पर नगर निगम दे रहा दखल

भोपाल,

पुरानी सब्जी मंडी के लगभग तीन एकड़ इलाके में तहबाजारी को लेकर वक्फ बोर्ड द्वारा नियुक्त समिति और नगर निगम में ठन गई है. अभी तक इस इलाके में तहबाजारी की अनुमति नगर निगम के द्वारा दी जाती थी. इस बार यह काम वक्फ बोर्ड द्वारा नियुक्त समिति ने हथिया लिया है.

हालांकि नगर निगम के महापौर आलोक शर्मा ने यह स्वीकार किया है कि हमीदिया रोड के निकट स्थित पुरानी सब्जी मंडी का लगभग आधा इलाका वक्फ की संपत्ति है. लेकिन शर्मा ने यह भी कहा कि निगम के किसी भी कर्मचारी के खिलाफ किया गया दुव्र्यवहार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. यदि नगर निगम के कर्मचारी के साथ किसी ने विवाद किया तो उसके खिलाफ वैधानिक कार्यवाही की जाएगी.

यह बयान उस घटना के बाद सामने आया है जिसमें यह बताया गया है कि कुछ स्थानीय लोगों और नगर निगम के कर्मचारियों के बीच कथित रूप से झड़प हुई है.

समस्या तब खड़ी हुई है जब नगर निगम ने दुकानदारों से तहबाजारी वसूलने की कोशिश की जबकि इन्हें दुकान चलाने की अनुमति पहले ही वक्फ से मिल चुकी थी. मध्यप्रदेश वक्फ बोर्ड के चेयरमेन शौकत खान ने कहा कि नगर निगम के द्वारा किया गया कोई भी कड़ा व्यवहार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

जिस जमीन की बात की जा रही है वह वक्फ की संपत्ति है तथा उनकी समिति वक्फ अधिनियम के तहत पंजीकृत है. उधर दूसरी ओर यह बताया जा रहा है कि इस भूमि पर निगम विकास की योजना बना रहा है.

नगर निगम के पिछले बजट में महापौर शर्मा ने हमीदिया रोड स्थित नादरा बस स्टैंड के पुनर्विकास की घोषणा की थी. पुनर्विकास की इस प्रस्तावित योजना में पुरानी सब्जी मंडी का व्यावसायिक इलाका भी शामिल है.

Related Posts: