bpl2भोपाल,  भोपाल से सटे समरधा सर्किल में सागोन के सैकड़ों बेश्कीमती पेड़ों की अवेध कटाई और दो जंगली जानवरों के शिकार के सबूत मिलने के बाद भी किसी भी स्टाफ पर कार्यवार्ही नहीं हो पाई है. जिससे साफ जाहिर होता है कि मामले की लीपा-पोती करने का प्रयास किया जा रहा है.

इस क्षेत्र में उडऩदस्ते की टीम ने 5 दिन बीट शुमारी की थी. जिसमें सागोन के 200 से ज्यादा पेड़ों के ठुठ पाए गए और शिकार में मारे गए राष्ट्रीय पक्षी मोर और चीतल के अवशेष भी बरामद हुए.

हेमर लगा दिए गए
ग्राम समरधा के रहवासियों के मुताबिक समरधा सर्किल के स्टाफ ने जांच शुरु होने से पहले ही आनन-फ ानन में अवैेध रूप से काटे गए सागोन के सैकड़ों पेड़ों पर हेमर लगाकर उनकी गिनती कर ली थी, जिससे रिकार्ड में ठुठों की संख्या में खुद बा खुद कमी पाई गई. हालंकि डीएफ ओ एके सिंह ने जांच रिपोर्ट नही आने किे बात जरूर कही है. लेकिन जिस तरह से जांच करवाई गई है उसपर भी सवाल उठ रहे है.

Related Posts: