mp1विदिशा,  मुख्यमंत्री तक अपनी मांगों को पहुंचाने के लिये आज 22 जून को अनेक दिव्यांगों (विकलांग) ने पदयात्रा करते हुये रैली निकाली, लेकिन सूचना मिलने पर बाल आयोग के अध्यक्ष राघवेेन्द्र शर्मा स्वयं उनका ज्ञापन लेने शाम के समय विदिशा आये और उन्होंने नि:शक्तजनों से शाम लगभग 5 बजे बाढ़ वाले गणेश मंदिर में भेंट की. लेकिन कई नि:शक्तजन मुख्यमंत्री से ही भेंट करना चाहते थे, इसलिये वे भोपाल की ओर निकल गये.

शाम को बाढ़ वाले गणेश मंदिर में बाल आयोग के अध्यक्ष राघवेन्द्र शर्मा ने नि:शक्तजनों से भेंट की. इस दौरान नि:शक्तजनों ने श्री शर्मा पर सवाल दागा कि उनकी विभिन्न मांगों को लेकर मुख्यमंत्री श्री चौहान उनसे कब भेंट करेंगे, जिसका श्री शर्मा सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारी सटीक जवाब नहीं दे सके. जिस पर नि:शक्तजनों ने मुख्यमंत्री श्री चौहान को अपनी विभिन्न मांगों से अवगत कराने का हवाला देते हुये भोपाल की ओर कूच कर दिया. एसडीएम आर.पी. अहिरवार ने बताया कि विकलांगों की जो मांगें हैं, वह प्रशासनिक स्तर की नहीं, बल्कि शासन स्तर की हैं. इसलिये वे समझाईश के बाद भी भोपाल की ओर कूच कर गये.

म.प्र. मूक बधिर विकलांग अधिकार मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष अखिलेश जैन ने बताया कि सांची से भोपाल तक रैली में शामिल लोगों के खाने और रहने आदि की व्यवस्था मुडिया खेड़ा के पूरनसिंह लोधी द्वारा की जायेगी। उन्होंने बताया कि नि:शक्तजनों की 8 सूत्रीय मांगे हैं, जिनमें मूक बधिर, दृष्टिहीन, मंद बुद्धि और अस्थि बाधित दिव्यांगों के प्रति मुख्यमंत्री की अच्छी सोच होते हुये भी भोपाल में नौकरशाही द्वारा विकलांगों को नजरअंदाज किया जा रहा है जिससे दुखी होकर अपने अधिकारों के लिये नौकरशाही और समाज को जागरूक करने के लिये वे 22 से 25 जून तक 4 दिन की भोपाल पदयात्रा करने जा रहे हैं।

 

Related Posts: