संघ प्रमुख ने शुरू किया मंथन भागवत से मिले मुख्यमंत्री

नवभारत न्यूज भोपाल,

प्रदेश में भाजपा के लिये विजय का मंत्र खोजने की शुरूआत संघ ने की है. विदिशा में 3 दिवसीय कार्यक्रम के दौरान संघ प्रमुख मोहन भागवत मौजूद रहेंगे. यहां ऐसे सभी मुद्दों पर मंथन होगा, जो चुनाव में नकारात्मक असर डाल सकते हैं.

बैठक शुरू होने से पहले राजधानी में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने संघ प्रमुख से मुलाकात की. गुजरात चुनाव में भाजपा का दलित कार्ड ध्वस्त हो जाने के बाद संघ भी चिंतित है. करीब छह साल पहले इसी मुद्दे पर समरसता कार्यक्रम चलाने वाले संघ की वजह से भाजपा को बड़ी चुनावी सफलता मिली थी.

अब स्थिति यह है कि गुजरात से शुरू हुआ दलित आंदोलन पूरे देश में कामयाब हो रहा है, जिसे देखते हुये संघ ने चिंतन प्रारंभ कर दिया है. भागवत सुबह दस बजे राजधानी आये और उन्होंने संघ कार्यालय समिधा में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से चर्चा की. माना जा रहा है कि चर्चा का मूल विषय चुनाव था.

इसके बाद वे विदिशा रवाना हो गये, जहां केशव नगर स्थित सरस्वती शिशु मंदिर में तीन दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया है. यहां मध्यप्रदेश व छग के करीब डेढ़ हजार स्वयं सेवक मौजूद हैं.
माना जा रहा है कि संघ नेताओं ने नये सिरे से समरसता कार्यक्रम की रूपरेखा बनाई और चुनाव से पहले अमल में लाया जाना सुनिश्चित किया गया.

माना जा रहा है कि शुक्रवार को प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान व संगठन महामंत्री सुहास भगत भी विदिशा पहुंच जायेंगे, जबकि संघ नेता भी विदिशा में एकत्रित होंगे. इनमें मध्य प्रांत प्रचारक अरुण जैन भी शामिल हैं, जो मुख्यमंत्री व प्रदेश भाजपा अध्यक्ष के सीधे संपर्क में हैं.

सत्ता विरोधी लहर पर भी होगी चर्चा

आमतौर पर संघ के कार्यक्रमों से मीडिया को दूर रखा जाता है, लेकिन जो समाचार मिल रहे हैं, उससे जानकारी मिली है कि संघ प्रदेश में सत्ता विरोधी लहर व कांग्रेस की स्थिति का आकलन कर रहा है. पहले भी संघ इस मामले में मुख्यमंत्री व भाजपा संगठन को आगाह कर चुका है कि करीब 80 भाजपा विधायकों के खिलाफ नाराजगी है.

सामाजिक समरसता का संदेश

विदिशा. हमारे देश के सभी पंथ-संप्रदाय एकता और भाईचारे का संदेश देते हैं. केवल प्रवचन सुनने से काम नही होता है. असली चीज है कि हम प्रवचनों के माध्यम से दी गई सीख को अपने आचरण में उतारें. यह बात विदिशा में नगर में आयोजित एकात्म यात्रा के जनसंवाद कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए सरसंघ संचालक मोहन भागवत ने कही.

श्री भागवत ने कहा कि समाज में एकता लाने के लिये हमे यह संकल्प लेना होगा कि हमारे घरों में काम करने वाली बाई, जिस नाई से हम बाल कटाते हैं और जिनसे हम कपड़े धुलवाते हैं. ऐसे लोगों के घर इस मकर संक्रांति पर जाये और उन्हें गुड और तिल देकर पर्व की शुभकामनायें दें. इसी तरह रक्षाबंधन पर राखी बंधवायें.

Related Posts: