मुंबई. भारत में शादियों के सीजन में गोल्ड खरीदने वालों को इंटरनेशनल मार्केट में इसके दाम में आई कमजोरी का फायदा नहीं मिल पा रहा है। इसकी वजह डॉलर के मुकाबले रुपये की वैल्यू में आई गिरावट है।

इंटरनेशनल मार्केट में गोल्ड की कीमत शुक्रवार को 1.6 पर्सेंट गिरकर 1,175 डॉलर प्रति औंस रही। 1 औंस में 31.10 ग्राम गोल्ड होता है। हालांकि, डोमेस्टिक कमोडिटी एक्सचेंज एमसीएक्स पर गोल्ड सिर्फ 0.7 पर्सेंट गिरकर 26,701 रुपये प्रति 10 ग्राम पर रहा। उसकी वजह यह है कि भारत अधिकांश गोल्ड इंपोर्ट करता है। ऐसे में करेंसी की वैल्यू में उतार-चढ़ाव का इसकी कीमत पर काफी असर होता है। शुक्रवार को डॉलर के मुकाबले रुपया तीन महीने के लो लेवल 63.56 पर रहा। वहीं गुरुवार को यह 63.32 पर बंद हुआ था।

मार्केट से जुड़े लोगों का कहना है कि रुपये की वैल्यू में और कमी आ सकती है। उन्होंने इसके लिए नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर करेंसी ऑप्शंस डेटा की दलील दी। इससे गोल्ड बायर्स का मूड और खराब होगा। वहीं ज्वैलर्स का कहना है कि अधिक दाम के चलते देश में गोल्ड की मांग कम हुई है। इंडियन बुलियन ज्वैलर्स एसोसिएशन (आईबीजेए) के प्रवक्ता केतन श्रॉफ ने बताया कि पिछले हफ्ते मंगलवार को अक्षय तृतीया पर गोल्ड सेल्स पिछले साल के मुकाबले 30 पर्सेंट गिरी। वहीं साल भर पहले इस दिन करीब 27 टन गोल्ड की बिक्री हुई थी। उन्होंने यह भी कहा कि गोल्ड का दाम 26,000 रुपये प्रति 10 ग्राम होने पर ही ज्यादा लोग इसकी खरीदारी करेंगे।

हालांकि, करेंसी ट्रेंड को देखकर ऐसा जल्द होने की उम्मीद नहीं है। जहां इंटरनेशनल मार्केट में इस हफ्ते गोल्ड की कीमत 1,150 डॉलर तक पहुंचने के आसार हैं, वहीं भारत में इस कमजोरी का फायदा करेंसी के चलते नहीं मिलेगा। इस हफ्ते अमेरिकी फेडरल रिजर्व के ऑफिशियल्स वहां इंटरेस्ट रेट बढ़ाने के लिए मीटिंग करने जा रहे हैं। अगर जल्द रेट बढ़ाने का फैसला होता है तो गोल्ड प्राइसेज में और गिरावट आ सकती है।

ब्रोकरेज फर्म एडमिसी कमोडिटीज के डायरेक्टर सुरेश नायर ने बताया, अगर डॉलर के मुकाबले रुपया 64 के लेवल को पार करता है तो यह आगे 66 तक जा सकता है। इसका मतलब यह है कि इंटरनेशनल मार्केट में गोल्ड के सस्ता होने का फायदा भारतीय कंज्यूमर्स को नहीं मिलेगा।ज् कमोडिटीज फ्यूचर्स एडवाइजरी फर्म जियोफिन कॉमट्रेड में सीनियर वाइस प्रेसिडेंट विरल शाह भी इससे सहमत हैं। उन्होंने कहा, च्हमें करेंसी में उतार-चढ़ाव पर नजर रखनी होगी. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर मंगलवार को एक्सपायर होने जा रहे कुछ करेंसी ऑप्शंस संकेत दे रहे हैं कि रुपया गिरकर 64 के लेवल तक जा सकता है।

Related Posts: