23gaurभोपाल,23 मार्च. गृह और जेल मंत्री बाबूलाल गौर ने कहा कि महिलाओं के विरुद्ध अपराधों को केन्द्र में रखकर किया जा रहा 23वें अ.भा. विधि विज्ञान सम्मेलन सराहनीय पहल है. गौर सम्मेलन का शुभारंभ कर रहे थे.

उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा महिलाओं के विरूद्ध होने वाले अपराधों पर नियंत्रण करने की प्रभावी पहल के साथ ही महिला हेल्प डेस्क योजना प्रत्येक पुलिस स्टेशन में प्रारंभ की गई है. महिला डेस्क पर महिला पुलिस अधिकारी की नियुक्ति की गई है. गौर ने कहा कि क्रिमिनल जस्टिस डिलेवरी सिस्टम में फोरेन्सिक साइंस (विधि विज्ञान) का बड़ा महत्व है. उन्होंने कहा कि फोरेन्सिक साइंस तकनीकों को उन्नत, कम समय में पूरा करने और इनकी लागत को कम करने की दिशा में कार्य करने की जरूरत है.

गृह मंत्री ने कहा कि भौतिक साक्ष्य (फिजिकल एविडेंस) अपराधों की जान हैं. प्राचीनकाल से लेकर अब तक ऐसे अनेकों प्रमाण हैं जहाँ भौतिक साक्ष्य के आधार पर महत्वपूर्ण फैसले हुए हैं. उन्होंने बताया कि भारत सरकार द्वारा विधि विज्ञान प्रयोग शाला की स्थापना भोपाल में की जा रही है.

Related Posts: