घटना के बाद परिषद की जिला कार्यसमिति भंग

दोराहा नवभारत न्यूज,

क्षेत्र के ग्राम झरखेड़ा में चल रही तीन दिवसीय विश्व हिन्दू परिषद की मध्यप्रांत बैठक के समापन अवसर पर स्वयंसेवक आपस में भिड़ गए और उनके बीच जमकर लातमपैजार हुई.

इस हंगामे के दौरान एक के गंभीर रूप से घायल होने और उपचार के लिए भोपाल भेजे जाने की जानकारी पुलिस सूत्रों से प्राप्त हुई है. इस घटना को अनुशासनहीनता मानते हुए परिषद के वरिष्ठ पदाधिकारियों द्वारा जिले व प्रखंड की तमाम कार्यसमितियों को भंग कर दिया गया है.

गौरतलब है कि जिले के दोराहा थाना क्षेत्र के ग्राम झरखेड़ा के एक निजी स्कूल में तीन दिवसीय मध्यभारत प्रांत की बैठक आयोजित की गई थी. इसमें प्रदेश के व छत्तीसगढ़ राज्य के 32 जिलों के स्वयं सेवक शामिल होने पहुंचे थे. तीन दिन तक चलने वाले इस आयोजन का समापन रविवार को होना था.बताया जाता है कि समापन कार्यक्रम के दौरान स्वयंसेवकों के बीच कुछ कहासुनी हो गई.

थाना प्रभारी मुन्नालाल चौधरी ने बताया कि समापन अवसर पर परिषद के प्रांतीय मंत्री डा. सुरेंद्र सिंह मंच पर उपस्थित थे. उन पर भी कुछ लोगों द्वारा हमला करने का प्रयास किया गया. इससे वहां अफरातफरी की स्थिति निर्मित हो गई और स्वयंसेवक वहां से भाग निकले.

सूत्र बताते हैं कि बैठक के दौरान कुछ स्वयंसेवकों को पद से हटाने की बात को लेकर उनमें आक्रोश का माहौल बना हुआ था और उन्होंने आयोजन स्थल पर जमकर हंगामा किया और तोडफ़ोड़ की. इस दौरान शहर के कथावाचक पं. मोहित पाठक को गंभीर चोटें आईं. उन्हें प्राथमिक उपचार के बाद भोपाल रेफर किया गया है.

टीआई श्री चौधरी ने बताया कि हंगामे की जानकारी मिलते ही पुलिस बल मौके पर पहुंच गया था और हालात पर काबू पा लिए गए थे. घटना के बाद विहिप के प्रांत मंत्री डॉ. सुरेंद्र सिंह ने विहिप नेता अतुल राठौर काका सहित मनीष मेवाड़ा, मदन मेवाड़ा, तरुण राठौर, अंकित व्यास , मुकेश परमार, प्रकाश परमार व अन्य आठ से दस लोगों के खिलाफ धारदार हथियारों से लैस होकर हमला करने व कार्यक्रम स्थल पर तोडफ़ोड़ करने की लिखित रूप से शिकायत दर्ज कराई है.

थाना प्रभारी श्री चौधरी ने बताया कि प्रांतीय मंत्री द्वारा दिए गए आवेदन के आधार पर जांच कर मामला दर्ज किया जाएगा, घटना की सूचना मिलते ही कार्यक्रम स्थल पर एसडीओपी ओपी त्रिपाठी, दोराहा टीआई मुन्ना लाल चौधरी, श्यामपुर थाना टीआई नरेंद्र सिंह कुलस्ते, बिलकीसगंज टीआई सुरेश मीणा सहित अहमदपुर, दोराहा, श्यामपुर व झागरिया व जिला मुख्यालय के बल मौके पर पहुंचा, जो सुरक्षा की दृष्टि से देर शाम तक उपस्थित रहा. इस दौरान एसडीओपी श्री त्रिपाठी ने पुलिस अधिकारियों के साथ घटना स्थल का देर शाम को निरीक्षण किया.

घटना के बाद शाम को विहिप के प्रांत मंत्री डॉ. सुरेंद्र सिंह द्वारा प्रांतीय बैठक में हंगामा व तोडफ़ोड़ को देखते हुए अतुल राठौर काका और जिला मंत्री दीपक पाठक को परिषदों के सभी दायित्वों से पदमुक्त कर दिया है.

इसके अलावा जिला एवं प्रखंड कार्यकारिणी को भी तत्काल प्रभाव से भंग कर दिया गया है. डॉ. सिंह ने नवभारत से चर्चा में बताया कि परिषद में किसी भी प्रकार की अनुशासनहीनता कतई बर्दाश्त नहीं की जाएगी. आज जो कुछ भी प्रांतीय बैठक के समापन अवसर पर हुआ वह उचित नहीं था. परिषद में ऐसे कृत्यों को अंजाम देने वालों के लिए कोई स्थान नहीं है. आगामी दिनों में परिषद की जिला नवीन कार्यसमिति का गठन किया जाएगा.

Related Posts: