अमरावती,

उप राष्ट्रपति वैंकेया नायडू और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने वेल्लोर इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी-एपी यूनिवर्सिटी के अमरावती स्थित एकेडमिक और हॉस्टल ब्लॉक का उदघाटन किया।

श्री नायडू ने कहा कि शिक्षा सिर्फ नौकरी पाने के लिए ही नहीं है बल्कि शिक्षा का असली मकसद ज्ञान का विस्तार करना और सशक्तीकरण है। किसी भी देश का भाग्य एक क्लॉस रूम में आकार लेता है।

वीआईटी-एपी यूनिवर्सिटी ने कम समय में ही अपनी ब्रांड इक्विटी बना ली है। अच्छे शहरों की सबसे अच्छी खसियत उसके अच्छे शैक्षिक संस्थान ही होते हैं। भारत में शिक्षा का महत्व दिया गया और आंध्र प्रदेश एजुकेशनल हब है।

चंद्र बाबू नायडू ने कहा कि वीआईटी-एपी यूनिवर्सिटी की अमरावती में स्थापना इस उद्देश्य से की गई है जिससे उच्चतम स्तर के शैक्षिक अनुभवों को साझा किया जा सके। उन्होंने वीआईटी-एपी यूनिवर्सिटी की स्थापना का काम बहुत तेजी से करने पर तारीफ करते हुए कहा कि इससे आंध्र प्रदेश के छात्रों को अंतर्राष्ट्रीय स्तर का अनुभव मिल सकेगा।

वीआईपी-एपी आंध्र प्रदेश को नॉलेज हब बनाने की दिशा में आगे बढ़ चला है। इस मौके पर उन्होंने उन सभी किसानों को धन्यवाद दिया जि?न्होंने नई राजधानी बनाने के लिए अपनी जमीनें दी हैं।

चांसलर डॉ जी विश्वनाथन ने भी अपनी बात रखी। वाइस प्रेसीडेंट शंकर विश्वनाथ, डॉ. विश्वनाथन, जी वी सेल्वम, डॉ सुभाकर, संध्या पेंटा रेड्डी, कादांभरी एस विश्वनाथन ने भी हिस्सा लिया।

Related Posts: