aditiनई दिल्ली,  पिछले सप्ताह लंदन में संपन्न हुये तीसरे एशियाई फुटबॉल अवार्ड में पुरस्कार जीतकर ऐसा करने वाली पहली भारतीय महिला बनने का गौरव हासिल करने वाली अदिति चौहान के वीजा का नवीनीकरण नहीं हो पाने के कारण उनके इंग्लैंड से निर्वासित होने की नौबत आ गई है.

इंग्लैंड फुटबॉल संघ के नियमों के अनुसार अदिति का वीजा नवीनीकृत नहीं हो सका. दिल्ली की रहने वाली अदिति खेल प्रबंधन में स्नात्कोत्तर की डिग्री के लिये दो वर्ष पहले लाफबोरो यूनिवर्सिटी गई थीं. यूनिर्विसिटी की ओर से खेलने के दौरान ही वेस्ट हैम की गोलकीपिंग कोच जुलियन की उन पर नजर पड़ी और उन्हें आगे आने का मौका मिला. एफए के नियमों के अनुसार विद्यार्थी वीजा पर इंग्लैंड में पढ़ाई कर रही कोई विद्यार्थी महिला फुटबॉल के शीर्ष दो श्रेणी के क्लबों के लिए नहीं खेल सकती.

Related Posts: