helicopterनयी दिल्ली,   इटली की रक्षा क्षेत्र की प्रमुख कंपनी फिनमकैनिका के पूर्व प्रमुख जी ओर्सी तथा सहयोगी कंपनी अगस्ता वेस्टलैंड के प्रमुख रह चुके बरनो स्पेगनोलिनी को भारत के साथ 12 वीवीआईपी हेलिकॉप्टर सौदे में रिश्वत के मामले में क्रमश साढे चार और चार साल की कैद की सजा सुनाई गयी है।

इटली के मीडिया में आई रिपोर्टों के अनुसार इन दोनों को मिलान की निचली अदालत ने सजा सुनाई है। भारत के साथ वीवीआईपी हेलिकॉप्टर सौदे के समय फिनमकैनिका के प्रमुख रहे ओर्सी को वर्ष 2014 में गिरफ्तार किया गया था। बाद में उन्होंने इस पद से इस्तीफा दे दिया था।

इस सौदे के लिए रिश्वत देने के आरोपों के बाद भारत ने इस सौदे पर रोक लगा दी थी और मामले की केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने जांच शुरू की थी। फिनमकैनिका की सहयोगी कंपनी अगस्ता वेस्टलैंड ने तब तक भारत को तीन हेलिकॉप्टरों की आपूर्ति कर दी थी और इसके बाद से यह मामला लटका पड़ा है। भारत ने मामले का निपटारा होने तक इस कंपनी के साथ सभी रक्षा सौदों पर रोक लगा दी है।

Related Posts: